हिंदी न्यूज़ – प्रॉपर्टी जब्त होने की डर से भारत लौटना चाहते हैं विजय माल्या! – due to loss of Assets Vijay Mallya Anxious To Return

भारतीय बैंकों से हजारों करोड़ रुपये का कर्ज लेकर ब्रिटेन भागे शराब कारोबारी विजय माल्या भारत लौटना चाहते हैं. एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से बताया कि माल्या को इस बात का डर सता रहा है कि अगर वो भारत नहीं लौटता है तो उसे अपनी सारी संपत्ति से हाथ धोना पड़ सकता है. दरअसल संसद से पारित नए कानून के तहत एक बार भगोड़े अपराधियों की संपत्ति जब्त हो जाएगी, तो उसे दोबारा छुड़ाया नहीं जा सकेगा.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अब तक माल्या की 13,500 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी सील की है. जांच एजेंसी के एक अधिकारी ने कहा, ‘माल्या की लगभग सारी प्रॉपर्टी सील कर दी गई है. एक बार ये सील होने के बाद दोबारा नहीं मिलती है.’

विजय माल्या इन संपत्तियों पर दोबारा कब्जा हासिल करने के लिए नए रास्ते की तलाश में हैं. अधिकारी के मुताबिक, माल्या पिछले दो महीने से भारत आने की कोशिश कर रहे हैं.

आपको बता दें कि विजय माल्या की ब्रिटेन से प्रत्यर्पण को लेकर कोशिशें तेज़ हो गई हैं. पिछले दिनों विजय माल्या ने प्रत्यर्पण के खिलाफ भारतीय जेलों की खराब स्थिति का हवाला देते हुए याचिका लगाई थी. विजय माल्या ने कोर्ट में दलील दी थी कि आर्थर रोड जेल के हालात काफी खराब हैं. उन्होंने कहा था कि वहां जेल में ठीक तरीके से रोशनी नहीं आती और वहां कई बार मानवाधिकारों का उल्लंघन भी होता है.पिछले दिनों लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने सीबीआई को कहा था कि वो भारत की उस जेल का वीडियो दें जहां माल्या को रखा जाएगा, जिसके बाद सीबीआई ने आर्थर रोड जेल का वीडियो कोर्ट को सौंप दिया है. सीबीआई के मुताबिक, ये वीडियो करीब 8 मिनट का है, जिसमें आर्थर रोड जेल के उस बैरक को दिखाया गया है, जहां विजय माल्या को रखा जा सकता है.

बता दें कि किंगफिशर एयरलाइन के पूर्व मालिक माल्या ने धोखाधड़ी और तकरीबन 9000 करोड़ रुपये के धन शोधन के आरोपों में प्रत्यर्पण के भारत के प्रयासों को चुनौती दी है. वो पिछले साल अप्रैल से गिरफ्तारी के बाद जमानत पर रिहा हैं.

ये भी पढ़ें:

70 फीसदी पार्टियां चाहती हैं बैलेट पेपर से हो चुनाव: कांग्रेस

1 दिसंबर से आप भी उड़ा सकते हैं ड्रोन, केंद्र सरकार ने दी मंजूरी

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *