हिंदी न्यूज़ – 31 अगस्‍त को कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाएंगे राहुल गांधी – Rahul Gandhi will visit Kailash Mansarovar on August 31

कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाएंगे 'शिवभक्त' राहुल गांधी

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी 31 अगस्‍त से 1 सितंबर के बीच कैलाश मानसरोवर की यात्रा करेंगे.

News18Hindi

Updated: August 29, 2018, 2:58 PM IST

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के कैलाश मानसरोवर की यात्रा की तैयारी तेज कर दी गई है. अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी 31 अगस्‍त से 1 सितंबर के बीच कैलाश मानसरोवर की यात्रा करेंगे. राहुल ने सबसे पहले इसकी घोषणा अप्रैल में रामलीला मैदान में एक जन आक्रोश रैली में की थी. उन्होंने उस वक्त कहा था कि कर्नाटक चुनाव प्रचार के दौरान हेलीकॉप्टर दुर्घटना से बाल-बाल बचने के बाद यह फैसला लिया है. उस वक्त उनका हेलीकॉप्टर राडार से कुछ समय के लिए गायब हो गया था. कांग्रेस ने इसके लिए बीजेपी पर आरोप लगाए थे.

ये भी पढ़ेंः केरल : राहुल गांधी का केंद्र पर हमला, बोले सरकार उतनी मदद नहीं कर रही जितनी है जरूरत

राहुल ने कहा कि वो यह यात्रा भगवान शिव को धन्यवाद देने के लिए करेंगे. हालांकि विदेश मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी ने यात्रा के लिए अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है. चूंकि यह यात्रा चीन से होकर गुजरती है इसलिए यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन कराना ज़रूरी होता है.

राहुल गांधी लगातार जनता में ये संदेश देना चाहते हैं कि वो समर्पित हिंदू हैं. पूरे गुजरात और कर्नाटक चुनाव के दौरान वो मंदिरों में जाते हुए पाए गए. उन्हें रुद्राक्ष पहने हुए भी देखा गया. पार्टी ने ये भी कहा कि वो और उनका पूरा परिवार जनेऊधारी है.ये भी पढ़ेंः एमपी में कांग्रेस का चुनावी बिगुल फूंकेंगे राहुल गांधी, 17 सितंबर को पहुंचेंगे भोपाल

कांग्रेस ने इस बात को महसूस किया कि 2014 लोकसभा चुनाव के बाद से ही उनकी अल्पसंख्यक तुष्टीकरण की राजनीति काम नहीं कर रही है. इसलिए वो हिंदुओं को भी अपनी ओर खींचने की कोशिश कर रहे हैं. यहां तक कि 2015 में उत्तराखंड की बाढ़ के बाद राहुल ने केदारनाथ की यात्रा पैदल की थी. कैलाश यात्रा 8 सितंबर को खत्म होगी. राहुल गांधी के इस सप्ताह यात्रा पर निकलने की संभावना है.

एक शिवभक्त के लिए कैलाश मानसरोवर की यात्रा सबसे प्रमुख यात्रा मानी जाती है. इस यात्रा से राहुल गांधी मीडिया की सुर्खियां भी बंटोरने में कामयाब हो सकते हैं. इस यात्रा से राहुल गांधी के दो पहलू भी लोगों के सामने आएंगे. एक तो नेता दूसरे अध्यात्मिक राहुल गांधी. कांग्रेस को इससे पार्टी की इमेज बदलने में कामयाबी मिल सकती है.

और भी देखें

Updated: August 29, 2018 12:36 PM ISTVIDEO- केरल मुद्दे पर राहुल का केंद्र पर वार, विदेशी आर्थिक मदद से परहेज क्यों?

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *