हिंदी न्यूज़ – TMC नेता दिनेश त्रिवेदी का मोइली को पत्र, नोटबंदी को लेकर सरकार से मांगा जाए जवाब-TMC’s Dinesh Trivedi Writes to Moily to Adopt DeMo Report on Last Day of Parliamentary Committee

TMC नेता दिनेश त्रिवेदी का मोइली को पत्र, नोटबंदी को लेकर सरकार से मांगा जाए जवाब

दिनेश त्रिवेदी (File Photo)

News18Hindi

Updated: August 31, 2018, 6:38 PM IST

वित्तीय मामलों को देखने वाली संसद की स्थायी समिति का कार्यकाल शुक्रवार को समाप्त हो रहा है. समिति के कार्यकाल की समाप्ति के आखिरी दिन टीएमसी नेता एवं समिति के सदस्य ने समिति के चेयरमैन विरप्पा मोइली को पत्र लिखकर नोटबंदी पर आरबीआई की रिपोर्ट को स्वीकार करने के लिए कहा है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि नवंबर 2016 में बंद किए गए 500 एवं 1000 रुपये के 99.30 प्रसेंट नोट बैंक खातों में वापस आ चुके हैं.

न्यूज18 को अपने सूत्रों के हवाले से पता चला है कि दिनेश त्रिवेदी ने अपने पत्र में लिखा है कि आरबीआई के इस खुलासे के बाद सरकार से जवाब मांगा जाना चाहिए कि नोटबंदी क्यों की गई?

आरबीआई की रिपोर्ट के अनुसार 8 नवंबर 2016 से पहले 15.41 लाख करोड़ कीमत के 500 एवं हजार के नोट चलन में थे और जिसमें से 15.31 लाख करोड़ वापस आ चुके हैं. आरबीआई ने बताया था कि 500 और 100 के बंद नोटों के प्रसंस्करण और सत्यापन का विस्तृत काम सफलतापूर्वक पूरा किया जा चुका है.

बता दें कि 99 प्रसेंट से अधिक नोट बैंक खातों में वापस आने के बाद विपक्ष सरकार पर हमलावर है. कांग्रेस पार्टी इसे मोदी मेड डिजास्टर बता रही है. गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि नोटबंदी का लक्ष्‍य साफ था. यह पीएम मोदी के दोस्‍तों को फायदा पहुंचाने के लिए था.उन्होंने कहा कि नोटबंदी कोई गलती नहीं थी, यह जानबूझकर उठाया गया कदम था. यूपीए सरकार के समय 2.5 लाख करोड़ रुपये का एनपीए था. अब यह बढ़कर 12.5 लाख करोड़ रुपये हो गया है. आरोप लगाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि नोटबंदी का कोई रिजल्‍ट नहीं आया. नोटबंदी एक बहुत बड़ा घोटाला है. इससे देश की अर्थव्‍यवस्‍था को नुकसान पहुंचा. प्रधानमंत्री को बताना चाहिए कि ऐसा क्‍यों हुआ.

ये भी पढ़ें: नोटबंदी बड़ा घोटाला, राफेल पर छुपाए जा रहे हैं तथ्‍य: राहुल गांधी

और भी देखें

Updated: August 31, 2018 12:34 PM ISTVIDEO : ये है भोपाल की कोहेफिज़ा पुलिस…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *