हिंदी न्यूज़ – ‘आतंकियों से बात हो सकती है तो हार्दिक से क्यों नहीं ?’-Talk to terrorists, why not with

अहमदाबाद स्थित अपने आवास पर आमरण अनशन पर बैठे पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल की लड़ाई शुक्रवार को सातवें दिन में प्रवेश कर गई है. जल का भी त्याग कर चुके हार्दिक का वजन लगभग चार किलो, 900 ग्राम तक घट गया. शुक्रवार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन मोढ़वाडिया, भावनगर से डॉ. कनुभाई कलसारिया, कांग्रेसी विधायक शैलेश परमार, हिम्मत सिंह पटेल, इमरान खेड़वाला समेत कई नेता उनसे मिलने पहुंचे.

कांग्रेसी नेताओं ने सरखेज-गांधीनगर हाईवे स्थित वैष्णोदेवी मंदिर परिसर में हनुमान जी की प्रतिमा के सामने हार्दिक के अच्छे स्वास्थ्य के लिए रामधुनका आयोजन भी किया. इस दौरान कांग्रेस नेता अर्जुन मोढ़वाडिया ने कहा कि हार्दिक प्रजागत समस्याओं के समाधान के लिए अनशन पर बैठे हैं. हम उसके अच्छे स्वास्थ्य  की प्रार्थना करते हैं. भगवान बीजेपी सरकार को सद्बुद्धि प्रदान करें. सरकार को हार्दिक से संवाद करना चाहिए, किसी भी समस्या के समाधान का श्रेष्ठ मार्ग बातचीत ही हो सकता है.

उन्‍होंने सवाल किया कि नक्सली, आतंकी और कानून को अपने हाथ में ले रहे लोगों के साथ अगर बातचीत हो सकती है तो हार्दिक के साथ क्यों नहीं? हम हार्दिक से गुजारिश करेंगे कि वह अनशन जरूर कायम रखें, लेकिन जल त्याग न करें.

ये भी पढ़ें: हार्दिक पटेल को जबरन हॉस्पिटल शिफ्ट कर सकती है गुजरात सरकार!अहमदाबाद स्थित जमालपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक इमरान खेड़वाला और कांग्रेस नेता बदरुद्दीन शेख समेत कई मुस्लिम कांग्रेसी नेताओं ने हार्दिक के स्वास्थ्य और लम्बी उम्र के लिए मस्जिद में दुआ मांगी. कांग्रेस के मुताबिक गुजरात में लोकतंत्र मर चुका है. आम लोगों को हार्दिक से मिलने भी नहीं दिया जाता है. यहां तक की जरुरी सुविधाएं भी उन तक नहीं पहुंचाने नहीं दी जा रही. कांग्रेस हमेशा से लोगो के साथ खड़ी थी और रहेगी.

इस बीच उनके स्वास्थ्य की जांच करने वाले चिकित्सकों की टीम की अगुवा सोला सिविल हॉस्पिटल की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर नम्रता वडोदरिया ने कहा कि हार्दिक का हिमोडाइनेमिकली स्टेबल है, ऑक्सीजन नॉर्मल है. अगर वह पानी और खुराक लेना शुरू नहीं करेंगे तो अगले कुछ समय में समस्या हो सकती है.

गौरतलब है कि  किसानों की कर्ज माफी और पाटीदार आरक्षण के मुद्दे पर बाहर अनशन की सरकारी अनुमति नहीं मिलने के बाद हार्दिक पटेल अहमदबाद में  एसजी हाईवे के निकट स्थित अपने आवास पर 25 अगस्त से भूख हड़ताल पर बैठे हैं.

ये भी पढ़ें: क्या अनशन के जरिये अपना राजनीतिक भविष्य साधना चाहते हैं हार्दिक पटेल?

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *