हिंदी न्यूज़ – लव जिहाद की बुराइयों के खिलाफ बंगाल के स्कूल-कॉलेजों में अभियान चलाएगा विहिप/VHP will run campaign in Bengal schools colleges against love jihad

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने मंगलवार को कहा कि यह लव जिहाद की बुराइयों के खिलाफ पश्चिम बंगाल के स्कूलों और कॉलेजों में इस महीने एक अभियान शुरू करेगा. वहीं, राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने इस कदम की सख्त आलोचना करते हुए कहा है कि वह संघ परिवार के नापाक मंसूबों को कभी कामयाब नहीं होने देगी.

विहिप के मीडिया संयोजक सौरीश मुखर्जी ने कहा कि विहिप अपनी युवा शाखा, बजरंग दल और महिला शाखा, दुर्गा वाहिनी के साथ लव जिहाद के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रम चलाएगा तथा युवाओं से संपर्क साधने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करेगा.

मुखर्जी ने कहा, ‘हम इस महीने के मध्य से राज्य में लव जिहाद की बुराइयों के खिलाफ एक राज्यव्यापी अभियान शुरू करेंगे. यह अभियान युवाओं को इस बारे में जागरूक करेगा कि किस तरह से लव जिहाद का इस्तेमाल हमारी हिंदू बहनों को निशाना बनाने के लिए किया जा रहा है. हम विभिन्न स्कूलों और कॉलेजों में जाएंगे और पर्चे बांटेंगे.’

विहिप के वरिष्ठ नेता ने कहा कि यह संगठन प्रेम के खिलाफ नहीं है, बल्कि यह हिंदू लड़कियों को धर्मांतरण के लिए इसे एक प्रलोभन के रूप में इस्तेमाल किए जाने के विचार के खिलाफ है.उन्होंने कहा, ‘हमारा मकसद इस बारे में हिंदू लड़कियों और उनके माता पिता के बीच जागरुकता पैदा करना है.’

हालांकि, इस मुद्दे पर प्रदेश भाजपा नेतृत्व ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

वहीं, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी माकपा. कांग्रेस ने राज्य में कथित तौर पर अशांति पैदा करने और इस कदम के जरिए राज्य के लोगों को धर्म के आधार पर बांटने की कोशिश करने को लेकर विहिप की सख्त आलोचना की.

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता फिरहाद हकीम ने कहा कि विहिप, भाजपा और आरएसएस पिछले कुछ बरसों से धर्म के आधार पर राज्य के लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन जब तक यहां तृणमूल कांग्रेस है, संघ परिवार के नापाक मंसूबों को कायमाब नहीं होने दिया जाएगा.

प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अधीर चौधरी ने कहा कि यह एक सतर्क करने वाला घटनाक्रम है और राज्य सरकार को इस तरह के तत्वों का मुकाबला करने के लिए कदम उठाना चाहिए.

माकपा के वरिष्ठ नेता सुजन चक्रवर्ती ने कहा कि संघ और विहिप जैसे संगठन बंगाल में अपनी पैठ बना रहे हैं क्योंकि तृणमूल कांग्रेस सरकार उन पर पूरी तरह से चुप है और उनसे निपटने में नरम रूख अपना रही है.राज्य सरकार को इस तरह के संगठनों को रोकने के लिए कदम उठाने चाहिए.

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *