हिंदी न्यूज़ – Love Wins: Internet Flooded with Memes and Cartoons As India Decriminalises Gay Sex-‘गे सेक्स’ पर SC के फैसले के बाद सोशल मीडिया पर ऐसा उड़ा सेक्शन 377 का मज़ाक

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को ऐतिहासिक फैसला देते हुए समलैंगिकता (होमो सेक्सुअलिटी) को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया है. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) की अगुवाई में पांच जजों की बेंच ने संविधान के सेक्शन 377 के उस हिस्से को रद्द कर दिया जिसमें समलैंगिक संबंधों को अपराध की श्रेणी में रखा गया था.

समलैंगिकता अपराध नहीं, Section 377 बराबरी के अधिकार का उल्लंघन: सुप्रीम कोर्ट

वहीं, सोशल मीडिया पर भी इसे लेकर कई तरह की बातें शुरू हो गई हैं. जहां कई लोग इस फैसले को सही बताते हुए अच्छी बातें शेयर कर रहे हैं. वहीं, कई लोग मीम्स और कार्टून के जरिए सेक्शन 377 का मजाक बना रहे हैं.

ये भी पढ़ें : सेक्शन 377 के ऐतिहासिक फैसले में क्या बोला SC?बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि इतने सालों तक समान अधिकार से वंचित करने के लिए इतिहास को एलजीबीटी (लेस्बियन, गे, बाइसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर और क्वीयर) समुदाय से माफी मांगनी चाहिए. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने फैसला पढ़ते हुए विलियम शेक्सपियर को भी कोट किया. कोर्ट में फैसला सुनाए जाते वक्त वहां मौजूद एलजीबीटी समुदाय के तमाम लोग भावुक हो गए, कुछ तो रोने भी लगे.

क्या है धारा 377 ?
भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 377 के मुताबिक कोई किसी पुरुष, स्त्री या पशुओं से प्रकृति की व्यवस्था के विरुद्ध संबंध बनाता है तो यह अपराध होगा. इस अपराध के लिए उसे उम्रकैद या 10 साल तक की कैद के साथ आर्थिक दंड का भागी होना पड़ेगा. सीधे शब्दों में कहें तो धारा-377 के मुताबिक अगर दो अडल्ट आपसी सहमति से भी समलैंगिक संबंध बनाते हैं तो वह अपराध होगा.

आइए देखते हैं ट्विटर पर लोग किस तरह से इस विषय पर कर रहे हैं बातें…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *