हिंदी न्यूज़ – चिदंबरम एंड कंपनी से किसी भी मुद्दे पर डिबेट के लिए तैयारः अमित शाह Amit Shah Says Ready to Debate on Issue with Chidambaram And Company

तेल की कीमतों से लेकर राफेल डील तक कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियों के हमलों पर पलटवार करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कहा कि पार्टी किसी भी मुद्दे पर बहस के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि इसके लिए कांग्रेस को तथ्यों के साथ आना होगा.

पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के पहले दिन की समाप्ति के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह की बात दोहराते हुए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा, “बीजेपी पी चिदंबरम एंड कंपनी से बहस के लिए तैयार है. वे अर्थव्यवस्था, जीएसटी पर तथ्यों के साथ आएं.”

कांग्रेस और अन्य पार्टियां तेल की बढ़ती कीमतों, रुपये के घटते भाव, बेरोजगारी और राफेल डील के खिलाफ सोमवार को भारत बंद की तैयारी में हैं.

सीतारमन ने संवाददाताओं से कहा कि पार्टी जल्द ही राष्ट्रव्यापी कैम्पेन की शुरुआत करेगी और जनता के साथ अपनी योजनाओं की सक्सेस स्टोरी शेयर करेगी. पार्टी किसानों, पूर्व सैनिकों, ओबीसी आयोग, अर्थव्यवस्था, जीएसटी से आर्थि मुनाफे और सिटिजन एमेंडमेंट बिल 2016 के लिए सरकार के काम का प्रचार करेगी.सीतारमन ने कहा, “हम जनता के पास जाएंगे और उन्हें आयुष्मान भारत, एमएसपी, यूरिया योजना, ओबीसी आयोग और अर्थव्यवस्था की बढ़ती गति को लेकर उन्हें जागरूक करेंगे.”

शाह ने आगे कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुकी है और यह जल्द ही ब्रिटेन को भी पीछे छोड़ देगी.

हाल ही में तेल की बढ़ती कीमतों को लेकर विपक्ष ने केंद्र सरकार पर खासा दबाव बनाया था. कई शहरों में पेट्रोल की कीमत 80 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गई है. जबकि अमेरिकी डॉलर की तुलना में रुपये का भाव गिरकर 72 रुपये प्रति डॉलर हो गया है. ऐसा पहली बार हुआ है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने हाल ही में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि रुपये में गिरावट के कारण वैश्विक हैं घरेलू नहीं. उन्होंने कहा था कि अन्य देशों की करेंसी भी डॉलर के मुकाबले गिर रही है.

आरबीआई ने हाल ही में रिपोर्ट जारी की थी कि नोटबंदी के दौरान बंद किए गए नोटों में से 99.3 प्रतिशत नोट बैंकों में वापस आ चुके हैं. इस रिपोर्ट के बाद नोटबंदी के फायदे को लेकर भी सवाल उठने लगे थे.

राफेल डील को लेकर कांग्रेस लगातार बीजेपी को घेरने की कोशिश में जुटी हुई है. इसे लेकर हाल ही में राहुल गांधी और अरुण जेटली के बीच ट्विटर पर बहस हो गई थी. जेटली ने कांग्रेस अध्यक्ष के आरोपों का खंडन किया था वहीं राहुल गांधी ने मामले की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति का गठन करने की चुनौती दी थी.

पूर्व बीजेपी मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी सार्वजनिक तौर पर कह चुके हैं कि राफेल डील अब तक का सबसे बड़ा डिफेंस डील घोटाला है. उन्होंने केंद्र सरकार पर देश की सुरक्षा के साथ समझौता करने का भी आरोप लगाया था.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *