हिंदी न्यूज़ – India’s Iran Oil Purchases to Fade Ahead of US Sanctions-अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते ईरान से तेल कम आयात करेगा भारत

भारतीय रिफाइनरियां सितंबर और अक्टूबर के दौरान ईरान से अपने मासिक क्रूड लोडिंग में इस साल कटौती करेंगेRी.  सितंबर और अक्टूबर में भारत की ओर से की जाने वाली कटौतीर 12 मिलियन बैरेल से कम होगी. अमेरिका ने भारत समेत अन्य देशों को ईरान से पेट्रोल का आयात घटाकर चार नवंबर तक ‘शून्य’ करने को कहा है. साथ ही स्पष्ट किया है कि इसमें किसी को भी किसी तरह की छूट नहीं दी जायेगी.

सऊदी अरब और इराक के बाद ईरान भारत के लिये तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल आपूर्तिकर्ता देश है. अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 के दौरान ईरान ने 1.84 करोड़ टन कच्चे तेल की आपूर्ति की थी.

जून में तेल मंत्रालय ने रिफाइनीरियों को बताया कि नवंबर के महीने से ईरान से ‘शून्य’ आयात के लिए तैयार रहें.  अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने पिछले सप्ताह कहा था कि वाशिंगटन प्रतिबंधों पर छूट देने को लेकर विचार कर सकता है. हालांकि, उन्होंने स्पष्ट कर दिया था कि ऐसा सीमित अवधि के लिए ही किया जाएगा.

यह भी पढ़ें: ‘रुपए में गिरावट, कच्चा तेल चढ़ने से राज्यों को होगा 22,700 करोड़ का फायदा’बता दें  ईरान के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों के लागू होने से जुड़ी अनिश्चितता के बीच सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन ने अक्तूबर में ईरान से सामान्य रूप से हर महीने होने वाली 7.5 से 8 लाख टन कच्चे तेल के आयात की बुकिंग करा ली है. हालांकि आगे भी यह जारी रहेगा इसको लेकर अनिश्चितता बनी हुई है.

रॉयटर्स के मुताबिक, भारत ने अप्रैल-अगस्त में ईरान से लगभग 658,000 बैरल तेल प्रति दिन (बीपीडी) उठाया था, और सितंबर और अक्टूबर के लिए अनुमानित कटौती इन दो महीनों में दैनिक औसत को लगभग 45 प्रतिशत कम कर  के 360,000-370,000 बीपीडी तक कर दिया है.

सूत्रों ने बताया कि शीर्ष रिफाइनरी इंडियन ऑयल कॉर्प,  सितंबर और अक्टूबर में प्रत्येक 6 मिलियन बैरल तेल चाहता है, जबकि मैंगलोर रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल्स इन दो महीनों के लिए 3 मिलियन बैरल तेल चाहिए.

यह भी पढ़ें: भारत को 14 साल में सबसे सस्ती कीमत पर तेल देगा ईरान

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *