हिंदी न्यूज़ – AAP नेता का आपत्तिजनक बयान – ‘BJP का कोई नेता 10 लोगों से कुकर्म करवाए, हम देंगे 20 लाख’ – AAP Haryana chief’s shocking statement, ‘Offers’ Rs 20 Lakh to BJP Men Ready to Face Same Trauma as Rewari Rape Victim

आम आदमी पार्टी के एक नेता ने हरियाणा गैंगरेप की निंदा करते हुए एक सार्वजनिक बहस छेड़ दी है. हालांकि उन्होंने जो बयान दिया वह काफी आपत्तिजनक है. उन्होंने ऐलान किया कि अगर कोई भी बीजेपी का नेता रेप पीड़ित के अनुभव से गुजरे तो वह उसे 20 लाख रुपये देंगे.

पार्टी के हरियाणा प्रभारी नवीन जयहिंद हरियाणा की बीजेपी सरकार की तरफ से पीड़ित को दिए गए मुआवज़े का मुद्दा उठा रहे थे. उन्होंने कहा कि सरकार मुआवज़ा तो दे रही है, लेकिन बलात्कारियों को पर्याप्त सजा नहीं दे पा रही.

उन्होंने कहा, “क्या एक लड़की की इज़्ज़त 2 लाख रुपये की होती है? मुख्यमंत्री शर्म करो. बीजेपी का कोई नेता 10 लोगों से कुकर्म करवाए, तो हम उनको 20 लाख रुपये देंगे. इज़्ज़त की कोई कीमत होती है क्या?”

इस आपत्तिजनक बयान के बाद आप नेता आतिशी ने उनके बयान पर सफाई दी है. आतिशी ने कहा कि जिस तरह से उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया जताई, वह गलत तरीका था. हालांकि, उन्होंने कहा कि उनके नेता ने एक अहम मुद्दा उठाया है.

यह भी पढ़ें – रेवाड़ी गैंगरेप केस: रोहतक में दोस्त की स्पोर्टस एकेडमी में छिपा था आरोपी निशू

आतिशी ने कहा, “उन्होंने जो हाईलाइट किया वह सही है, लेकिन हां उन्होंने जिन शब्दों का प्रयोग किया वह गलत था.”

सरकार की तरफ से सम्मानित की जा चुकी रेवाड़ी की स्कूल टॉपर लड़की का आरोप है कि उसे एक बस स्टॉप पर अगवा कर लिया गया था. उसका आरोप है कि वह उस समय कोचिंग के लिए जा रही थी, तभी उसे नशा देकर अगवा किा गया और फिर उसके साथ गैंगरेप किया गया. इसके बाद उसे सिंचाई के लिए बने ट्यूबवैल के कमरे से पाया गया.

पीड़ित लड़की के पिता का कहना है कि उनकी बेटी के साथ 8 से 10 लोगों ने गैंगरेप किया, लेकिन वह सिर्फ तीन को ही पहचान सकी. पीड़ित लड़की को खट्टर सरकार की तरफ से 2 लाख रुपये का चेक दिया गया था, जिसे उनके परिवार ने लौटा दिया. उन्होंने मुआवजा नहीं बल्कि सरकार से बलात्कारियों को सजा दिए जाने की मांग की.

पीड़ित की मां ने कहा, “हम इंसाफ चाहते हैं, हम बलात्कारियों को सजा दिलाना चाहते हैं.”



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *