हिंदी न्यूज़ – भारत में तीसरी क्लास के 25 फीसदी बच्चे ही छोटी कहानियां पढ़कर समझ पाते हैंः रिपोर्ट-only twenty five percent of class three student can read and understand short stories

भारत में तीसरी क्लास के 25 फीसदी बच्चे ही छोटी कहानियां पढ़कर समझ पाते हैंः रिपोर्ट

प्रतीकात्मक फोटो

भाषा

Updated: September 19, 2018, 1:01 PM IST

एक नई रिपोर्ट के मुताबिक भारत में तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले केवल एक चौथाई बच्चे ही सामान्य वाक्यों वाली छोटी कहानी पढ़कर समझ पाते हैं और दो अंकों के घटाव के सवालों को हल कर पाते हैं. ‘बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन’ रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार के अपने राष्ट्रीय आकलन सर्वे में भी यह पता चला है कि इस तरह के बच्चों की बड़ी तादाद है, जिनमें सीखने का स्तर बेहद कम है.

ये भी पढ़ेंः क्वालिटी एजुकेशन में राजस्थान की उड़ान, नवाचारों ने दिलाया देशभर में दूसरा स्थान

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले केवल एक चौथाई बच्चे ही सामान्य वाक्यों वाली छोटी कहानी को पढ़ और समझ पाते हैं तथा एक या दो अंकों के घटाव के सवालों का हल कर पाते हैं.’’ रिपोर्ट में वार्षिक शिक्षा स्थिति रिपोर्ट 2017 के आंकड़ों का जिक्र किया गया है. इसमें कहा गया है कि इस समस्या के सामने आने के बाद भारत और अन्य देशों में इस पर ध्यान दिया जाने लगा है.

ये भी पढ़ेंः चुनावी साल में मिली तबादलों की सौगात, 18 साल बाद कई शिक्षकों की हुई घर वापसीरिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से लेकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अलावा दिल्ली और राजस्थान की सरकारें इसमें सुधार करने की व्यवस्था कर रही हैं. भारत में नेता इस मुद्दे को एजेंडे में रख रहे हैं. विश्व बैंक की विश्व विकास रिपोर्ट 2018 में शिक्षा की गुणवत्ता पर ध्यान केन्द्रित किया गया है.

और भी देखें

Updated: September 15, 2018 11:20 PM ISTअवध विवि 23वां दीक्षांत समारोहः 70 फीसदी गोल्ड मेडल पर लड़कियों का कब्जा

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *