हिंदी न्यूज़ – Bishop Franco Mulakkal, Accused in Kerala Nun Rape Case, Relieved of Duties by Vatican

केरल की नन से कथित बलात्कार के आरोपी जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल को वैटिकन ने उनके पद से हटा दिया है. मुलक्कल ने चार दिनों पहले पोप को चिट्ठी लिखकर जांच पूरी होने तक पद छोड़ने की इच्छा जताई थी, जिसे वैटिकन ने स्वीकार कर लिया है.

कैथलिक बिशप कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने एक बयान में कहा, ‘बिशप फ्रैंको मुलक्कल को वैकिटन के अंशकालिक तौर पर पास्टर की जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया है.’

फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ रेप का आरोप लगने के बाद इस मामले पर चर्च के रुख की काफी आलोचना हो रही थी. उधर मुलक्कल गुरुवार को भी केरल पुलिस के सामने पूछताछ के लिए पेश हुए, इससे पहले बुधवार को भी पुलिस ने उनसे छह घंटे पूछताछ की थी.

हालांकि मुलक्कल खुद को बेकसूर बताते हुए दावा कर रहे हैं कि उन्हें फंसाया जा रहा है. बिशप ने डिप्टी बिशप को पदभार सौंपने से पहले खुद को निर्दोष बताते हुए कहा था कि उन्हें फंसाया जा रहा है.मुलक्कल ने कहा था, ”मैं सबकुछ भगवान के ऊपर छोड़ कर जा रहा हूं. जब तक मेरे खिलाफ की जा रही जांच पूरी नहीं हो जाती तब तक मैथ्यू कोक्कणम प्रांत के बिशप होंगे.”

उधर पीड़ित नन ने हाल ही में इंसाफ के लिए वैटिकन (ईसाइयों की सर्वोच्च संस्था) से फौरन हस्तक्षेप करने की मांग की थी. पीड़ित नन ने भारत में वेटिकन के प्रतिनिधि जियामबटिस्टा दिक्वात्रो को एक ख़त लिखकर मामले की जांच कराने और बिशप फ्रैंको को पद से हटाने की गुहार लगाई थी.

उन्होंने फ्रैंको को हटाने की मांग करते हुए कहा था कि चर्च सच्चाई के प्रति आंखें क्यों मूंदे हुए है, जबकि उन्होंने अपनी पीड़ा सार्वजनिक करने का साहस दिखाया है. 8 सितंबर 2018 को लिखे गए सात पेजों के खत में नन ने कहा था कि चर्च की चुप्पी मुझे अपमानित महसूस करा रही है.

कोट्टायम जिला पुलिस अधीक्षक को की गई शिकायत में नन ने आरोप लगाया है कि उसका 13 बार यौन उत्पीड़न किया गया .

ये भी पढ़ें-
नन से रेप के आरोपी जालंधर के बिशप ने छोड़ा अपना पद
वेटिकन पहुंचा नन का केस, पीड़िता ने पोप को लिखा- महिलाओं के लिए सौतेली मां है चर्च

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *