हिंदी न्यूज़ – CBI निदेशक के खिलाफ शिकायत को क्या संस्थान के खिलाफ समझा जाए: सीबीआई/Should the complaint against the cbi director be deemed to be a complaint against the institution

CBI निदेशक के खिलाफ शिकायत को क्या संस्थान के खिलाफ समझा जाए: सीबीआई

सीबीआई (फाइल फोटो)

भाषा

Updated: September 23, 2018, 3:58 AM IST

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) निदेशक आलोक वर्मा और उनके डेप्युटी राकेश अस्थाना के बीच अंदरूनी मतभेद सामने आने के बाद के एजेंसी के सूत्रों ने शनिवार को कहा कि केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) को यह स्पष्ट करना होगा कि सीबीआई निदेशक के खिलाफ लगे आरोपों को क्या उस संस्था पर लगे आरोप माना जाना चाहिए जिसकी वह अध्यक्षता कर रहे हैं.

यह टिप्पणी सीबीआई की ओर से प्रेस को दिए गए बयान के एक दिन बाद आयी है. जिसमें 1979 बैच के एजीएमयूटी कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश वर्मा के खिलाफ शिकायत की जांच कर रहे (आयोग) सीवीसी को एजेंसी द्वारा सौंपे गए जवाब के विवरण दर्ज थे.

बता दें कि आलोक वर्मा के खिलाफ सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने यह शिकायत दर्ज कराई थी.cbi direc

ये भी पढ़ें: इमरान खान को कांग्रेस का जवाब- …सूप बोले तो बोले, छलनी क्या बोलेसीबीआई के एक सूत्र ने कहा कि सीवीसी को यह स्पष्ट करना होगा कि वर्मा सीबीआई कहलाने वाली संस्था हैं या एक व्यक्तिगत अधिकारी जो सीबीआई के प्रमुख हैं. उन्होंने कहा कि आयोग से यह भी स्पष्ट करने को कहा गया कि क्या आलोक वर्मा के खिलाफ लगे आरोपों को सीबीआई पर लगे आरोपों के तौर पर देखा जाना चाहिए? खबरों के मुताबिक वर्मा पर आरोप है कि उन्होंने पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव की संलिप्तता वाले आईआरसीटीसी घोटाले में आखिरी क्षण में छापेमारी बंद कर दी थी.

विशेष निदेशक ने जांच कर रहे अफसरों को डराने के लिये की शिकायत: सीबीआई

और भी देखें

Updated: September 20, 2018 08:38 PM ISTपं दीनदयाल उपाध्याय की हत्या के 50 साल पुराने मामले की हो सकती है CBI जांच

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *