हिंदी न्यूज़ – प्रॉपर्टी डील के झांसे में कस्टमर को रिसॉर्ट ले जाकर किया उत्तेजित

बिमला की नज़र पड़ोस में रहने वाले रिटायर होने के करीब आ चुके हरीश पर थी. हरीश अच्छी प्रॉपर्टी की तलाश में था और वह इनवेस्टमेंट करना चाहता था. आसपास के डीलरों से वह मिलता जुलता रहता था. जब यह खबर बिमला को लगी तो उसके मन में एक साज़िश मचल रही थी और उसने अपने दो साथियों ओपी और जेपी से बात की तो प्रॉपर्टी के धंधे में ठगी करने वाले ये तीनों हरीश को शिकार बनाने के लिए तैयार हो गए.

फिल्म खोसला का घोसला अगर आपको याद है तो आप जानते हैं कि दिल्ली या उससे सटे इलाकों में ज़मीनों और प्रॉपर्टी के सौदों में कितना बड़ा फ्रॉड होता है और कितने बड़े भू माफिया सक्रिय हैं. लेकिन, इस कहानी में बिमला कोई माफिया नहीं बल्कि छोटे मोटे सौदों में धोखाधड़ी के ज़रिये ठगी करने वाली एक पात्र है. बिमला ने जो तरकीब लगाई और जिस नज़र से निशाना लगाया, वह इस कहानी को खास बनाता है.

फरीदाबाद में रिटायर होने की उम्र में आ चुके हरीश को प्रॉपर्टी में इनवेस्ट करने का मन था इसलिए वह फरीदाबाद और आसपास की ज़मीनों के सौदे के बारे में जानकार डीलरों के संपर्क में था. इन्हीं लोकल डीलरों के संपर्क में बिमला रहा करती थी क्योंकि उसका धंधा भी यही था और यही ज़रिया था उसके फ्रॉड का. बिमला को हरीश के बारे में पता चला तो उसने हरीश का फोन नंबर जुगाड़ा और फिर हरीश से बात करके एक मुफ़ीद और सस्ती कीमत के अच्छे सौदे के बारे में उसे जानकारी दी.

बिमला : हम आपको एक अच्छी डील दे सकते हैं सर, अभी ज़मीन मिट्टी के भाव मिल रही है लेकिन आने वाले कुछ ही महीनों में इसकी कीमत आसमान छुएगी. हरीश : लेकिन इसकी क्या गारंटी है?
बिमला : पूरे कागज़ हैं सर, हर बात को आप क्रॉस चेक कर सकते हैं. आप आकर खुद देखिए और परख लीजिए.
हरीश : ठीक है. तो कब मिल सकते हैं?
बिमला : जब आप चाहें सर. कल मिल सकते हैं, हम अपनी गाड़ी में आपको ले चलेंगे साइट पर.

इसके बाद समय और जगह तय हो गई. हरीश बिमला और ओपी के साथ एक ज़मीन देखने गया और डील के बारे में बातचीत के दौरान बिमला ने हरीश के साथ हंसी मज़ाक के दौरान फ्लर्ट की कोशिश की तो हरीश ने भी कुछ इंटरेस्ट दिखाया. बस यही हरीश से एक छोटी सी चूक हो गई जो उसे महंगी पड़ने वाली थी. बिमला की शातिर नज़र ने हरीश की इस बात को भांप लिया था.

अब बिमला ने हरीश के साथ मीठी-मीठी बातें करना शुरू किया और डील के अलावा और भी बातचीत होने लगी. एक तरह से दोनों के बीच दोस्ती जैसी हो गई थी और दोनों मिलने-जुलने लगे. कभी साथ नाश्ता करते तो कभी कहीं घूमने चले जाते. बिमला अधेड़ उम्र की औरत थी और अरसे से इस धंधे में होने के कारण उसे बातों में फांसना भी खूब आता था. एक दिन बिमला ने एक रिसॉर्ट में वक्त बिताने का प्रस्ताव हरीश के सामने रखा और बोला कि वहां डील की बात हो जाएगी.

फरीदाबाद, दिल्ली समाचार, प्रॉपर्टी धोखाधड़ी, हनी ट्रैप, ब्लैकमेलिंग, faridabad, delhi news, property fraud, honey trap, blackmailing

हरीश कुछ समझा और कुछ नहीं समझा लेकिन उस रिसॉर्ट में चला आया. रिसॉर्ट में थोड़ी देर तफरीह करने के बाद वह बिमला के साथ एक रूम में था. बिमला ने हरीश के करीब आने और हरीश को उत्तेजित करने की कोशिश की. यहां हरीश असहज हो गया और वह तबीयत ठीक न होने की बात कहकर यहां से चला गया. बिमला का प्लैन लगभग चौपट हो चुका था तो उसने अपने दोनों साथियों को बुलाकर बात की.

ओपी : क्या हुआ? बकरा फंसा?
बिमला : नहीं, साला ढीला निकला. कुछ होने से पहले ही भाग गया.
जेपी : ओह! तो अब एक दो दिन में कहीं और प्रोग्रैम फिट करना पड़ेगा?
बिमला : मेरा खयाल है, इतने से काम हो सकता है क्योंकि यहां बुकिंग में उसके डिटेल्स दर्ज हैं और यहां सीसीटीवी कैमरों में भी वह होगा ही. बिस्तर पर नहीं आया तो ठीक है लेकिन रूम में थोड़ी देर मेरे साथ तो था.
ओपी : हां. प्लैन कंटिन्यू करते हैं.
जेपी : लेकिन, जब उसने कुछ किया नहीं तो क्या वो फंसेगा?
बिमला : हां फंसेगा, इतने में ही डर गया तो आगे भी डरेगा.

इसके बाद बिमला ने पिछली 17 जून को हरीश को फोन किया और अपने प्लैन के मुताबिक चाल खेली. पहले बातचीत में उसने हरीश से यह जानने की कोशिश कर ली कि वह रिसॉर्ट से चला क्यों आया और उसकी मानसिक हालत को भांपने के बाद बिमला ने अपने पत्ते खोले.

बिमला : मुझे 5 लाख रुपये चाहिए.
हरीश : अच्छा किसलिए?
बिमला : किसलिए क्या बस चाहिए.
हरीश : तुम मुझसे मांग रही हो?
बिमला : हां जी, तुम्हीं से मांग रही हूं. और तुम्हीं दोगे.
हरीश : क्यों? डील तो अभी कुछ फाइनल हुई नहीं?
बिमला : वो डील गई भाड़ में. अब नयी डील यह है कि अपनी इज़्ज़त बचाना चाहते हो तो 5 लाख का इंतज़ाम करो.
हरीश : मतलब? मैं समझा नहीं.
बिमला : देखो तुम रिसॉर्ट आए, मुझे कमरे में ले गए और तुमने मेरे साथ रेप करने की कोशिश की. इसकी तस्वीरें भी हैं, तुम्हारे नाम पर रिसॉर्ट में बुकिंग भी है और मेरे फोन कॉल्स भी हैं. अब यह सब तुम्हारी फैमिली को या पुलिस को पता चल गया तो?
हरीश : लेकिन ऐसा तो कुछ मैंने किया नहीं बिमला, यह तुम क्या कह रही हो?
बिमला : ज़्यादा भोले न बनो हरीश जी. अब चुपचाप 5 लाख रुपये दो और मुझसे अपनी जान छुड़ाओ. वरना सारे सबूत तुम्हारी फैमिली के पास पहुंच जाएंगे फिर किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं रहोगे.

हरीश हैरान हो चुका था लेकिन वह मजबूर था और कुछ कर नहीं सकता था क्योंकि उसे पता था कि बिमला ने जिन सबूतों की बात की है, उन्हें झूठा साबित नहीं किया जा सकता. लेकिन 5 लाख एकदम से उसके लिए बड़ी रकम थी. उसने बिमला से रकम के बारे में बात की और थोड़ी मोहलत मांगी. हरीश ने 50 हज़ार रुपये बिमला को दिए तो बिमला नाराज़ हो गई.

फरीदाबाद, दिल्ली समाचार, प्रॉपर्टी धोखाधड़ी, हनी ट्रैप, ब्लैकमेलिंग, faridabad, delhi news, property fraud, honey trap, blackmailing

बिमला ने साफ कह दिया कि सिर्फ 50 हज़ार में पीछा नहीं छूटेगा. उसे और इंतज़ाम करना ही होगा. हरीश इधर, बड़ी रकम के लिए इंतज़ाम करने के तनाव में था तो उधर, लगातार फोन पर बिमला और उसके साथी उसे धमका रहे थे. कुछ ही दिनों में हरीश की समझ आ गया कि यह सिलसिला अब कभी रुकेगा नहीं क्योंकि इस बात की कोई गारंटी नहीं कि वह 5 लाख रुपये दे दे तो ब्लैकमेलिंग नहीं होगी. आखिरकार उसने पुलिस की मदद लेने का मन बनाया.

पुलिस को उसने आपबीती सुनाई तो पुलिस ने तफ्तीश के बाद इन तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और यह खुलासा किया कि इस तरह के हनीट्रैप में फंसाकर ये तीनों पहले भी कई शिकार फांस चुके हैं और सस्ती प्रॉपर्टी का झांसा देकर ब्लैकमेलिंग के ज़रिये फ्रॉड करते हैं. इस कहानी के किरदारों के वास्तविक नामों का खुलासा नहीं किया गया लेकिन पुलिस इन लोगों की पूरी हिस्ट्री और फ्रॉड के तमाम केसों की जांच कर रही है.

ये भी पढ़ेंः

MURDER: दूसरे पति को छोड़ने को तैयार नहीं हुई प्रेमिका तो भड़क गया आशिक
बंदूक लेकर बीवी का MURDER करने निकला तो पहले फूंक दी अपनी CARAVAN
तांत्रिक ने रेप के बाद धमकाया – ‘किसी से कुछ कहा तो तंत्र-मंत्र से तबाह कर दूंगा’
पहले उंगली काटकर मूर्ति पर खून चढ़ाया फिर काट दिया अपना गला
MURDER: बेटे को नागवार गुज़री चिट फंड बिज़नेस में मां की बेईमानी

Gallery – PAKISTAN: लड़की ने शादी से किया इनकार तो सनकी ने मार दी गोली

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *