हिंदी न्यूज़ – सिर्फ अहिंसक आंदोलन के बल पर नहीं मिली स्वतंत्रता: सुमित्रा महाजन-non violence is not sole reason for freedom sumitra mahajan

सिर्फ अहिंसक आंदोलन के बल पर नहीं मिली आजादी: सुमित्रा महाजन

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की फाइल फोटो (पीटीआई)

वार्ता

Updated: July 9, 2018, 9:06 PM IST

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा है कि सिर्फ अहिंसक आंदोलन के बल पर भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी नहीं मिली है बल्कि क्रांतिकारियों का बलिदान और योगदान भी उतना ही ज़्यादा महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि देश की आजादी की लड़ाई 1857 से शुरू होकर नौ दशकों तक चली.

ये भी पढ़ेंः मैं मां की तरह लोकसभा चलाने की कोशिश करती हूं : सुमित्रा महाजन
सुमित्रा महाजन ने कहा, ‘‘कभी-कभी मुझे दुख होता है. मैं किसी की आलोचना नहीं करना चाहती. कई अन्य चीजें भी महत्वपूर्ण हैं. सावरकर (स्वतंत्रता सेनानी वीर दामोदर सावरकर) ने लिखा है, जब आप स्वतंत्रता संग्राम के बारे में सोचते हैं तो आपको 1857 से 1947 तक सोचने की जरूरत है. आपको स्वतंत्रता संग्राम के 90 साल के बारे में सोचने की जरूरत है.’’

ये भी पढ़ेंः लोकसभा अध्यक्ष ने स्वीकार किया YSR कांग्रेस के पांच सांसदों का इस्तीफाचिंचवाड़ा के चापेकर वाड़ा में स्वतंत्रता सेनानी क्रांतिवीर दामोदर चापेकर के सम्मान में डाक टिकट जारी करने के बाद सुमित्रा ने रविवार को यहां यह बातें कहीं. उन्होंने कहा, ‘‘हमने सिर्फ अहिंसा के मार्ग से स्वतंत्रता नहीं पाई है, क्योंकि महात्मा गांधी के सामने आने से पहले कई क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी.’’

इंदौर से सांसद महाजन ने कहा कि प्रथम स्वतंत्रता संग्राम 1857 में हुआ और उसी ने स्वतंत्रता की लौ जलाई. बाद में महात्मा गांधी ने इस काम में जन-मानस को साथ जोड़ा. उन्होंने कहा, “1857 की क्रांति के बाद गांव में रहने वालों को भी आजादी के मायने पता चले. बाद गांधी आए और उन्होंने अंतिम व्यक्ति तक पहुंच कर जन-मानस को अपने साथ किया और सभी से स्वतंत्रता की लड़ाई में शामिल होने को कहा.’

और भी देखें

Updated: July 09, 2018 08:09 PM ISTदलितों के बाद राहुल गांधी अब करेंगे मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *