हिंदी न्यूज़ – भारतीय हज यात्रियों का पहला काफिला आज सऊदी अरब रवाना-first group of haj yatris embarks on for saudi arabia

निसार अहमद

भारतीय हज यात्रियों का पहला काफिला शनिवार को सऊदी अरब के लिए रवाना हो गया. हज यात्रियों का पहला काफिला इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल-2 से रवाना हुआ. दिल्ली से शनिवार को 1230 हज यात्रियों ने उड़ान भरी जबकि पूरे देश से लगभग तीन हजार यात्री शनिवार को सऊदी अरब के लिए रवाना हो गए.

दिल्ली में हज यात्रियों को रवाना करने के लिए हवाई अड्डे पर एक समारोह आयोजित किया गया था. केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी मुख्य अतिथि के रूप में आए और उन्होंने हज 2018 को ऐतिहासिक करार देते हुए कहा कि आजादी के बाद पहली बार एक लाख 75 हजार हज यात्री हज के लिए जा रहे हैं. साथ ही इस बार बिना सब्सिडी के लोग हज करेंगे तो यह और भी खास है.

ये भी पढ़ेंः हाजियों पर बढ़ा बोझ, इस साल खर्च करनी पड़ रही अधिक राशिमुख्तार अब्बास नकवी ने हज यात्रियों से एक-एक करके मुलाकात की और देश की खुशहाली के लिए प्रार्थना करने का अनुरोध किया. हालांकि यह प्रोग्राम एक तरह से विवादित हो गया जब केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के बीच मतभेद हज यात्रियों के सम्मेलन में भी देखने को मिला.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का नाम इस बार शामिल नहीं किया गया. जबकि दिल्ली के हज मामलों के मंत्री कैलाश घालोट का नेम प्लेट लगा हुआ था फिर भी वह नहीं आए. दिल्ली के खाद्य मंत्री इमरान हुसैन जरूर आए, लेकिन वह भी तब जब प्रोग्राम समाप्त हो रहा था.

केन्द्रीय मंत्री नकवी के संबोधन के बाद जैसे ही ऐलान किया गया कि दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन पहुंचने वाले हैं, तभी मुख्तार अब्बास नकवी हज यात्रियों से मिलकर वापस चले गए. इमरान हुसैन के आगमन पर उनका स्वागत किया गया. उन्होंने हज यात्रियों से देश मे शांति और खुशहाली के लिए प्रार्थना करने की अपील की.

ये भी पढ़ेंः VIDEO: ईद मिलन समारोह का आयोजन, हज पर जाने वालों का किया सम्मान

इसके अलावा, केंद्रीय हज समिति के अध्यक्ष महबूब अली कैसर भी इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए. इससे इस बात की अटकलें लगाई जा रही हैं कि मुख्तार अब्बास नकवी और उनके बीच हज मामलों को लेकर आई रिश्ते में कड़वाहट अभी भी बाकी है, जिसकी वजह से महबूब अली नहीं आए.

इस मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री हारून यूसुफ ने न्यूज 18 से बातचीत में आम आदमी पार्टी पर सख्त टिप्पणी करते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल को अल्पसंख्यक विरोधी करार दिया. उन्होंने कहा कि केजरीवाल को न तो हज से कोई मतलब है और न ही वक्फ बोर्ड और स्कूलों से. वह मुसलमानों को सिर्फ ठगने का काम कर रहे हैं. गौरतलब है कि पहले दिन पांच इंम्बारकेशन प्वाइंट से यात्री हज यात्रा के लिए रवाना हुए. दिल्ली से 1230 हज यात्रियों, श्रीनगर से 800 हज यात्री, लखनऊ से 600 हज यात्री, गुवाहाटी से 256 हज यात्री और गया से 150 हज यात्री हज के लिए रवाना हुए.

इस मौके पर इमरान हुसैन, दिल्ली हज कमेटी के अध्यक्ष हाजी मुहम्मद इशराक, केंद्रीय हज कमेटी के सदस्य इरफान अहमद, दिल्ली हज कमेटी के सदस्य फिरोज अहमद, सीमा ताहिरा, आदि मौजूद रहे. गौरतलब है कि हज यात्रा 14 जुलाई से शुरू होकर 14 अगस्त तक जारी रहेगी. शनिवार को दिल्ली से तीन उड़ानें भरी गईं. पहली उड़ान 11:30 बजे, दूसरी उड़ान 4:00 बजे और तीसरी उड़ान रात 8:00 बजे गई.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *