Delhi confidential pm narendra modi instruction to bjp mps to visit dalit villages in vein – नरेंद्र मोदी ने दिया था टास्क, एक को छोड़ किसी मंत्री ने नहीं किया पूरा, पीएम ने मांगी सबकी रिपोर्ट

दलित समुदाय की कथित तौर पर बीजेपी से नाराजगी को दूर करने और 2019 आम चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर पीएम नरेंद्र मोदी ने कुछ वक्त पहले पार्टी नेताओं को एक अहम निर्देश दिया था। मोदी ने कहा था कि वे दलित बहुल इलाकों में जाएं और वहां रात गुजारें। हालांकि, ऐसा लगता नहीं कि बीजेपी नेताओं पर इस बात का कोई असर पड़ा। बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में जब मोदी ने पूछा कितने मंत्रियों ने दलितों के गांव में वक्त गुजारा तो वहां मौजूद कई मंत्रियों को शर्मिंदा होना पड़ा।

सूत्रों के मुताबिक, सिर्फ राधा मोहन सिंह ही ऐसे मंत्री थे, जिन्होंने इस निर्देश का पालन किया। बाकी मंत्रियों ने पीएम को भरोसा दिलाया कि वह ग्राम स्वराज अभियान से पहले दलित गांवों में जाने का काम पूरा कर लेंगे। बता दें कि पीएम मोदी 14 अप्रैल से ग्राम स्वराज अभियान की शुरुआत कर रहे हैं। यह 5 मई तक चलेगा। मोदी ने मंत्रियों की एक टीम को निर्देश दिया है कि वे अभियान के दौरान बीजेपी सांसदों की गतिविधियों की एक रिपोर्ट उनके पास दाखिल करें।

बड़ी खबरें

बता दें कि मोदी की इस कवायद का मकसद कथित तौर पर बीजेपी के प्रति कमजोर पड़ रहे दलित समुदाय के विश्वास को दोबारा से हासिल करना है। हाल ही में एससी-एसटी एक्ट के प्रावधानों में बदलाव को लेकर हुए आंदोलन और पार्टी के अंदर ही कई दलित सांसदों की नाराजगी के बाद बीजेपी आलाकमान बेहद सतर्क हो उठा है। पीएम मोदी और बीजेपी भले ही कांग्रेस पर विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप लगा रहे हों, लेकिन असलियत यही है कि वे दलितों के कथित गुस्से को लेकर डैमेज कंट्रोल में जुटे हुए हैं।

कुछ वक्त पहले ही बीजेपी संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पार्टी सांसदों एवं मंत्रियों से दलितों एवं आदिवासियों की अच्छी खासी आबादी वाले गांव में जाने और सरकार की जन कल्याण योजनाओं की जानकारी देने को कहा था। मोदी की योजना है कि बीजेपी के सांसद और बाकी नेता 14 अप्रैल से 5 मई के बीच करीब 21 हजार ऐसे गांवों में रात गुजारेंगे जहां अनुसूचित जाति और जनजाति समुदाय की आबादी 50 प्रतिशत से अधिक है। पार्टी के नेता समुदाय के लोगों को केंद्र की विभिन्न जनकल्याण योजनाओं के बारे में जानकारी देंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *