Former Union home secretary GK Pillai reveals home ministry subordinates used to watch porn – पूर्व गृह सचिव का खुलासा- गृह मंत्रालय में पोर्न देखते थे अफसर

पूर्व केंद्रीय गृह सचिव जीके पिल्लई ने बुधवार को एक सनसनीखेज खुलासा किया। जब वह इन्चार्ज थे तो गृह मंत्रालय के कुछ कर्मचारी नॉर्थ ब्लॉक वाले ऑफिस में इंटरनेट पर पोर्न देखा करते थे। पिल्लई के मुताबिक, कर्मचारियों की इस हरकत की वजह से कम्प्यूटरों पर मैलवेयर डाउनलोड हो जाता है और पूरे कम्प्यूटर नेटवर्क की सुरक्षा खतरे में पड़ जाती थी। बता दें कि मैलवेयर एक खास किस्म का सॉफ्टवेअर होता है, जिसे बनाने का मकसद कम्प्यूटर सिस्टम को बाधित करना, नुकसान पहुंचाना या उनमें अनाधिकृत प्रवेश करना होता है।

पिल्लई ने यह खुलासा ऐसे वक्त में किया है, जब हाल ही में 10 सरकारी वेबसाइट्स ने काम करना बंद कर दिया था। इनमें गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय की साइटें भी शामिल थीं। शुरुआती रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि इन साइटों को हैक किया गया है, लेकिन सरकार ने साफ किया कि यह कोई साइबर हमला नहीं, बल्कि तकनीकी खामी है। जिन साइटों पर असर पड़ा, उनमें श्रम मंत्रालय, चुनाव आयोग और ईपीएफओ भी शामिल है। इन सभी साइटों को नैशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर होस्ट करता है। एनआईसी को इस संदिग्ध हैकिंग की जांच के आदेश दिए गए थे।

बड़ी खबरें

पिल्लई उस वक्त गृह सचिव थे, जब चिदंबरम यूपीए 2 के कार्यकाल में केंद्रीय गृह मंत्री हुआ करते थे। वह जून 2011 में रिटायर हुए थे। पिल्लई ने मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘आठ-नौ साल पहले जब मैं केंद्रीय गृह सचिव हुआ करता था तो हर 60 दिन पर सभी कम्प्यूटरों में गड़बड़ी मिलती थी।’ पिल्लई इस वक्त डेटा सिक्युरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया से जुड़े हुए हैं।

पिल्लई के मुताबिक, जब सीनियर अधिकारी बैठकों में व्यस्त होते थे तो नीचे के कर्मचारियों के पास बहुत सारा वक्त होता था। वह मीटिंग के बाद होने वाले काम के लिए इंतजार करते थे। पिल्लई ने कहा, ‘तो वे क्या करते? वह इंटरनेट पर पोर्न साइट्स पर जाते और वे सभी चीज डाउनलोड कर लेते, जिसकी वजह से सिस्टम में मैलवेअर डाउनलोड हो जाता।’ उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने कई निर्देश जारी किए और बाद में जब विस्तृत समीक्षा की गई तो कर्मचारियों की इस हरकत का पता चला।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *