I will make Army Chief aware of Facts over Tea and Mithai says AIUDF Chief Badruddin Ajmal – राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से सेना प्रमुख की शिकायत करेंगे बदरुद्दीन अजमल

ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के मुखिया बदरुद्दीन अजमल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत की शिकायत करेंगे। एआईयूडीएफ के मुखिया इस ये मसला राष्ट्रपति और पीएम के सामने चाय और मिठाई पर चर्चा के दौरान उठाएंगे। आपको बता दें कि एक हफ्ते पहले सेना प्रमुख ने एआईयूडीएफ के विकास की तुलना भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से कराई थी। 21 फरवरी को दिल्ली में आयोजित एक सेमिनार में रावत ने कहा था, “एआईयूडीएफ नाम की पार्टी बीते सालों में भाजपा के मुकाबले तेजी से बढ़ी है। हम जब दो सांसदों के साथ जनसंघ की और उसकी असल स्थिति की बात करते हैं तो एआईयूडीएफ ऐसी स्थिति में असम में तेजी से आगे बढ़ रही है।”

एआईयूडीएफ के अध्यक्ष बदरुद्दीन अजमल लोकसभा से सांसद हैं और फिलहाल दिल्ली में हैं। उन्होंने इस बारे में बताया, “मैं वहां जाऊंगा और चाय पियूंगा। मिठाई भी खाऊंगा, लेकिन मैं उन्हें एआईयूडीएफ से जुड़े तथ्यों से भी परिचित कराऊंगा। हमें इस बात पर कोई गलती महसूस नहीं होती है कि हम कौन हैं और क्या करते हैं।”

संबंधित खबरें

अजमल इससे पहले मंगलवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे। उन्होंने इस दौरान राजनाथ को दो पन्नों का ज्ञापन भी सौंपा और सेना प्रमुख के बयान पर स्पष्टीकरण की मांग की। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में अजमल बोले कि वह और उनके 13 विधायकों की राष्ट्रपति से मिलने की योजना है। वे इस मुलाकात में कोविंद को सेना प्रमुख की टिप्पणी से रू-ब-रू कराएंगे। यही नहीं, वे पीएम मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी इस मसले पर मिलेंगे। एआईयूडीएफ के मुखिया का कहना है, “सेना प्रमुख ने जो कहा मैं उससे समझ नहीं पाया कि वह क्या कहना चाह रहे थे। उन्हें अपने बयान को स्पष्ट करना चाहिए।” असम की 126 विधानसभा सीटों में एआईयूडीएफ साल 1985 में बनी थी। साल 2006 में यह सीटें जीती। 2011 में 18 सीटें हासिल कीं और 2016 में इसके हिस्से में 13 सीटें आईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *