javed akhtar tweet on viplab deb statement on internet in ancient india – ‘महाभारत के समय था इंटरनेट’ त्रिपुरा सीएम के बयान पर जावेद अख्‍तर बोले- बाकी धर्म भी इसी तरह अपने में झांक कर देखें

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने कह दिया है कि महाभारत काल से ही इंटरनेट और सैटेलाइट अस्तित्व में हैं। बिप्लब देब का यह बयान सोशल मीडिया पर खूब ट्रेंड हुआ। त्रिपुरा के सीएम के इस बयान पर कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। मशहूर गीतकार और शायर जावेद अख्तर ने भी अब बिप्लब देब के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। जावेद अख्तर ने कहा है कि जो लोग बिप्लब देब के दावों को लेकर मजाक बना रहे हैं ऐसे लोगों को अपनी धार्मिक मान्यताओं को भी देखना चाहिए।

जावेद अख्तर ने ट्वीट कर कहा है कि ‘महाभारत के समय में इंटरनेट का दावा करने के लिए त्रिपुरा के मुख्यमंत्री का मजाक बनाया जा रहा है। जिन तर्कों के आधार पर लोग ऐसा कर रहे हैं, लोगों को उसी के आधार पर अपने धार्मिक मान्यताओं को भी देखना चाहिए। दुनिया में किसी भी धार्मिक मान्यता के अपने-अपने तर्क होते हैं, जैसे की बिप्लब देब ने अपने दावों को लेकर दिए हैं’।

बड़ी खबरें

आपको बता दें कि इससे पहले बिप्लब देब ने बुधवार (18-04-2018) को जन वितरण प्रणाली के कंप्यूटरीकरण पर आयोजित एक कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा था कि इंटरनेट का आविष्कार अमेरिका या पश्चिमी देशों ने नहीं किया था, बल्कि लाखों वर्ष पहले भारत में इसका अविष्कार किया गया था।

सीएम बिप्लब देब ने महाभारत काल का जिक्र करते हुए कहा था कि संजय दृष्टिहीन थे, लेकिन वह युद्ध में होने वाली सभी घटनाओं को धृतराष्ट्र को सुना रहे थे। यह इंटरनेट की तकनीक से ही मुमकिन हो सका था। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कई नेताओं ने बिप्लब के इस बयान का समर्थन भी किया था। हालांकि उनके इस बयान पर मशहूर कवि डॉक्टर कुमार विश्वास ने उनपर तंज भी कसा था।

बिप्लब देब पर तंज करते हुए विश्वास ने कहा कि उस समय इंटरनेट को ‘अंतरनेत्र’ कहा जाता था।  त्रिपुरा सीएम के बयान के बाद से ही सोशल मीडिया पर लोगों ने उन्हें निशाने पर ले रखा है। फेसबुक पर कई मीम भी शेयर किये जा रहे हैं, एक मीम में तो पांडवों को लैपटॉप पर काम करते दिखाया जा रहा है।

सुनिए क्या कहा था त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *