karnataka assembly election bjp martyr worker list which was murdered by jihadi forces one is alive – कर्नाटक चुनाव: जिंदा है ‘जिहादी ताकतों’ के हाथों मारा गया ‘बीजेपी’ का शहीद!

कर्नाटक चुनावों में भाजपा यह कहकर जनता की सहानुभूति जुटाने की कोशिश कर रही है कि उसके 23 कार्यकर्ताओं को पिछले 5 सालों में जिहादी ताकतों द्वारा मार डाला गया है। कर्नाटक के उडुप्पी से सांसद शोभा करांदलजे ने बीते साल गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर उन 23 लोगों के नामों की लिस्ट भेजी थी, जिन्हें कथित जिहादी ताकतों द्वारा मौत के घाट उतार दिया गया था। लेकिन अब एक खुलासे में पता चला है कि इस लिस्ट में शामिल भाजपा का एक ‘शहीद’ अभी भी जिंदा है। एनडीटीवी ने अपनी एक रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है। दरअसल भाजपा ने गृह मंत्रालय को जो लिस्ट भेजी थी, उसमें अशोक पुजारे का नाम भी शामिल था। लिस्ट के अनुसार, पुजारे की 20 सितंबर, 2015 को हत्या कर दी गई थी। लेकिन अशोक पुजारे अभी तक जिंदा है।

एनडीटीवी के पत्रकार ने इस भाजपा कार्यकर्ता से बाकायदा मुलाकात भी की। मुलाकात के दौरान पुजारे ने बताया कि वह बजरंग दल और भाजपा के साथ जुड़ा रहा है। साल 2015 में 3 मोटरसाइकिल सवार 6 लोगों ने उस पर उस वक्त हमला किया था, जब वह काम से अपने घर लौट रहा था। पुजारे के अनुसार, उस पर यह हमला इसलिए किया गया, क्योंकि वह हिंदुत्व संगठन के साथ जुड़ा हुआ है। पुजारे ने बताया कि हमलावरों ने उसे भगवा गमछे से पहचाना, जोकि उसने अपनी सिर पर बांधा हुआ था। हमले में घायल हुआ अशोक पुजारे 15 दिनों तक आईसीयू में भर्ती रहा।

संबंधित खबरें

बातचीत के दौरान पुजारे ने बताया कि उसे भाजपा सांसद शोभा करांदलजे का फोन आया था और उन्होंने कहा था कि उसका नाम मृतकों की लिस्ट में शामिल करना एक गलती था। कर्नाटक चुनावों के लिए राज्य में प्रचार कर रहे पीएम मोदी भी अपनी जनसभाओं में भाजपा के 23 कार्यकर्ताओं की मौत का मामला उठा चुके हैं। हालांकि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार भाजपा के इस दावे से इत्तेफाक नहीं रखती। कांग्रेस का कहना है कि 23 में से 14 हत्याओं में मुस्लिम हमलावर नहीं हैं और ये लोग आत्महत्या या रंजिश के तहत मारे गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *