katihar medical college prospactus shows pok is not part of india – राजद सांसद के मेडिकल कॉलेज में भारत का विवादित नक्शा, बीजेपी ने लगाया देश तोड़ने की साजिश का आरोप

बिहार के एक मेडिकल कॉलेज के प्रोस्पेक्टस में भारत के नक्शे को लेकर विवाद हो गया है। दरअसल इस नक्शे में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर को भारत का हिस्सा नहीं दिखाया गया है, जिस पर लोगों ने आपत्ति की है। बता दें कि यह मेडिकल कॉलेज राजद के राज्यसभा सांसद अहमद अशफाक करीम का है। जिसके बाद सांसद के साथ-साथ राजद पार्टी भी लोगों के निशाने पर आ गई है। वहीं इस पूरे विवाद को भाजपा नेता और केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भारत को तोड़ने की एक बड़ी साजिश करार दे दिया है। अपने बयान में गिरिराज सिंह ने कहा कि उन्होंने पहले ही आगाह किया है कि देश को तोड़ने की बड़ी साजिश चल रही है। हालांकि इस पूरे विवाद पर अभी तक कॉलेज प्रशासन ने चुप्पी साधी हुई है। वहीं राजद सांसद अशफाक करीम भी इस मसले पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं।

बता दें कि राजद ने हाल ही में अशफाक करीम को पार्टी के टिकट पर राज्यसभा भेजा है। अशफाक करीम पहले लोक जनशक्ति पार्टी में थे, लेकिन 2017 में राजद के राष्ट्रीय अधिवेशन के दौरान राष्ट्रीय जनता दल में शामिल हो गए थे। साल 2013 में अशफाक करीम पर मेडिकल में फर्जी तरीके से दाखिला दिलाने का भी आरोप लगा था। इस आरोप में वह जेल भी जा चुके हैं और 11 महीने जेल में रहने के बाद कोर्ट ने उन्हें निर्दोष साबित किया, जिसके बाद वह रिहा हुए। उल्लेखनीय है कि कटिहार मेडिकल कॉलेज को कोसी का एम्स कहा जाता है, जहां बिहार के साथ-साथ बंगाल और नेपाल तक से लोग अपना इलाज कराने आते हैं। इससे पहले बिहार के आरा में भारत विरोधी नारे लगने का मामला भी सामने आया था। अररिया लोकसभा के लिए हुए उप-चुनाव में राजद की जीत के बाद देश-विरोधी नारे लगे थे।

संबंधित खबरें

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि भारत के नक्शे को गलत तरीके से पेश किया गया है। इससे पहले फेसबुक के सीईओ मार्क जुकेबर्ग भी ऐसी गलती कर चुके हैं। जुकेरबर्ग ने एक पोस्ट की थी, जिसमें भारत के नक्शे से पूरा कश्मीर गायब था। इसके अलावा मशहूर टीवी चैनल अल-जजीरा को भी भारत में उस वक्त 5 दिन का बैन झेलना पड़ा था, जब अल-जजीरा ने अपने एक कार्यक्रम में कश्मीर को भारत, पाकिस्तान और चीन के बीच बंटा हुआ दिखाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *