National Films Awards 2018: Home delivery of awards for those who skipped the event – राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कार: जो लेने नहीं आए, उनके घर अवार्ड भिजवाएंगी स्‍मृति ईरानी

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने उन विजेताओं को राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार डाक के जरिए भेजेगा जो गुरुवार (3 मई) को आयोजित समारोह में नहीं आए थे। हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, मंत्रालय मेडल्‍स और सर्टिफिकेट्स डाक के जरिए विजेताओं को भेजेगा। अधिकारी ने कहा, ”पूर्व में भी जो विजेता किन्‍हीं वजहों से अवार्ड लेने नहीं आए, उनके अवार्ड घर भिजवाए गए हैं।” 65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में 137 विजेताओं को सम्मानित किया जाना था। हालांकि राष्‍ट्रपति द्वारा उन्‍हें अवार्ड न दिए जाने का विरोध जताने को लगभग 60 विजेता विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में नहीं आए।

अवार्ड पाने वालों को बुधवार को ही जानकारी दी गई थी कि राष्‍ट्रपति सभी विजेताओं को अवार्ड नहीं देंगे। इस साल राष्‍ट्रपति ने सिर्फ 11 पुरस्‍कार बांटे जबकि बाकी अवार्ड सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्‍मृति ईरानी व उनके नायब राज्‍यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने वितरित किए। समारोह में न आने वालों का कहना था कि वह इसका बहिष्‍कार नहीं कर रहे हैं, बल्कि परंपरा तोड़े जाने से निराश हैं।

बड़ी खबरें

ऑस्‍कर से सम्‍मानित साउंड आर्टिस्‍ट रेसुल पूकुट्टी ने राष्‍ट्रपति के हाथों पुरस्‍कार न मिलने पर निराशा जताई। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा, “अगर भारत सरकार हमारे सम्मान में अपना तीन घंटे का समय भी नहीं दे सकती तो उन्हें हमें राष्ट्रीय पुरस्कार देने की जहमत नहीं उठानी चाहिए। हमारे 50 फीसदी से ज्यादा पसीने की कमाई आप मनोरंजन कर के रूप में ले लेते हैं, हमारी जो प्रतिष्ठा है कम से कम उसका तो सम्मान कीजिए।”

मणिरत्नम द्वारा निर्देशित फिल्म ‘काटरू वेलियीदाई’ में ‘वान वरुवान’ के लिए सर्वश्रेष्ठ प्‍लेबैंक सिंगर का नेशनल अवार्ड जीतने वाली शाशा तिरुपति ने कहा कि वह खुद को बहुत ही अपमानित महसूस कर रही हैं और पुरस्कार मिलने का वह रोमांच अब जा चुका है।

शाशा ने कहा, “राष्ट्रीय पुरस्कार और राष्ट्रपति हमेशा साथ-साथ होते हैं। 64 साल से यह पुरस्कार राष्ट्रपति द्वारा दिया जा रहा था। जब आप राष्ट्रीय पुरस्कार की बात करते हैं तो लोगों के दिमाग में अपने आप राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कार मिलने का ख्याल आ जाता है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *