PM Narendra Modi taken Help of translator in Karnataka Election Campaign, BJP, Congress – कर्नाटक: पीएम मोदी ने पहली बार अनुवादक के सहारे किया चुनाव प्रचार, बोले- ईमानदार भाजपाइयों को देना वोट

कर्नाटक के रण में उतरते हुए और धुआंधार चुनाव प्रचार की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (01 मई) को सत्ताधारी कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि परिवारवादी राजनीति की धुन कांग्रेस ने कर्नाटक में सभी विकास कार्य रोक दिए हैं। बेंगलुरू से 170 किलोमीटर दक्षिण में स्थित संतमाराहल्ली गांव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “जहां भी कांग्रेस होती है, विकास के सभी रास्ते बंद हो जाते हैं। वहां केवल परिवार की राजनीति होती है, भ्रष्टाचार होता है और सद्भाव की कमी होती है।”

मोदी ने कहा, “हमने दिल्ली में सुना कि कर्नाटक में भाजपा की लहर चल रही है। लेकिन जैसा मैं देख रहा हूं, यह लहर नहीं बल्कि आंधी है।” प्रधानमंत्री ने 40 मिनट तक भाषण दिया, जिसका साथ में कन्नड़ में अनुवाद किया जा रहा था। पिछले कुछ महीनों में दक्षिणी राज्य के उनके दौरों में उनके भाषण का पहली बार कन्नड़ भाषा में अनुवाद किया गया। लोगों को जोड़ने के लिए स्थानीय भाषा का इस्तेमाल किया गया। बता दें कि पीएम मोदी से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कर्नाटक में अनुवादक के सहारे भाषण देते रहे हैं। राहुल की बात का कन्नड़ अनुवाद पार्टी के वरिष्ठ नेता बी के हरिप्रसाद करते हैं। इसी तर्ज पर पिछले दिनों बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी कोशिश की थी लेकिन उनके अनुवादक सांसद ने कई गलतियां की थी। इससे पार्टी का मजाक उड़ा था।

संबंधित खबरें

उन्होंने कहा, “जब राज्य में लोकायुक्त ही सुरक्षित नहीं हैं तो कांग्रेस सरकार के राज में आम जनता सुरक्षित है, इस बात पर कोई कैसे यकीन कर ले।” मोदी ने कहा कि गांव में बिजली देने के वादे को पूरा करने में भी कांग्रेस विफल रही। उन्होंने कहा कि 28 अप्रैल, 2018 का दिन देश हमेशा याद रखेगा, क्योंकि इस दिन 18 हजार भारतीय गांवों में हमेशा के लिए बिजली पहुंच चुकी है। मोदी ने आरोप लगाया, “पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि भारतीय गांवों में 2009 तक बिजली पहुंचा दी जाएगी। लेकिन चार साल में उन्होंने केवल दो गावों में ही बिजली पहुंचाई। कांग्रेस ने कुछ नहीं किया, बस गरीबों का अपमान किया।” उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार अब देश के हर घर में बिजली पहुंचाने का कार्य करेगी।

मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को कर्नाटक में उनकी पार्टी की सरकार द्वारा अर्जित उपलब्धियों पर 15 मिनट बोलने की भी चुनौती दी। मोदी ने कहा, “कांग्रेस अध्यक्ष ने मुझे संसद में 15 मिनट बोलने की चुनौती दी थी। मैं इसे स्वीकारने में सक्षम नहीं हूं। मैं उनसे (गांधी) बिना कागज हाथ में लिए कर्नाटक में कांग्रेस सरकार की उपलब्धियों के बारे में बोलने के लिए कहता हूं।” मोदी ने विधानसभा चुनाव में पार्टी नेताओं के मित्र और रिश्तेदारों द्वारा चुनाव लड़ने को लेकर कांग्रेस पर परिवार की राजनीति में संलिप्त होने का आरोप लगाया।

मोदी ने कहा, “मुख्यमंत्री (सिद्धारमैया) के लिए नियम 2 प्लस 1 का है। वह खुद दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं और अपनी पुरानी सीट उन्होंने अपने बेटे यतींद्र को दे दी। अन्य मंत्रियों के लिए नियम एक प्लस एक का है, जिसमें उन्हें अपने रिश्तेदारों को चुनाव लड़ाने की इजाजत दी गई है।” मोदी ने कहा कि हार के डर के कारण सिद्धारमैया ने अपना विधानसभा क्षेत्र बदल लिया और दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। मोदी ने कहा, “कांग्रेस के लिए हमेशा परिवार की राजनीति रही है। लेकिन हमारे (भाजपा) लिए यह जनता की राजनीति है। राज्य के लोग यह तय करेंगे कि उन्हें आगामी चुनाव में किस तरह की राजनीति का चुनाव करना है।”

उन्होंने लोगों से ईमानदारी की राजनीति के लिए वोट करने की अपील की। मोदी ने जोर देकर कहा, “(भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार) बी.एस. येदियुरप्पा कर्नाटक की उम्मीद हैं और वह जल्द ही मुख्यमंत्री चुने जाएंगे।” उन्होंने कहा कि भाजपा विकास के रास्ते पर एक सुरक्षित कर्नाटक चाहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *