Sacked cleric wept inconsolably in front of his students at Lucknow Darul Uloom Nadwatul seminary, Says Almighty will take care – भरी क्लास में बच्चों के सामने फूट कर रोए मौलाना नदवी, कहा- अल्लाह करेंगे इंसाफ

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) से निकाले गए मौलाना सलमान हुसैनी नदवी लखनऊ स्थित एक मदरसे में बच्चों के सामने फूट-फूटकर रोए। मौलाना नदवी को अयोध्या के राम मंदिर मुद्दे का हल बातचीत के जरिये निकालने की हिमायत करने पर मुस्लिम बोर्ड से इस्तीफा देना पड़ा था। सोमवार (12 फरवरी) की शाम मौलाना लखनऊ के दारुल उलून नदवातुल मदरसे में अपना दुख बयां करते हुए रो पड़े। द टेलीग्राफ की खबर के मुताबिक मौलाना ने दावा किया कि उन्हें अल्लाह का सच्चा अनुयायी होने की सजा मिली। मौलाना ने कक्षा में बच्चों के सामने कहा- ”मैं दो समुदायों के बीच शांति लाने की कोशिश कर रहा था। जो लोग मेरे साथ अन्याय कर रहे हैं, अल्लाह उसका इंसाफ करेगा।” मौलाना को रोता देख कुछ बच्चे भी भावुक हो गए और उन्होंने मौलाना को ढांढस बंधाते हुए ‘इंशा-अल्लाह’ का संबोधन किया। चश्मदीदों के मुताबिक कुछ छात्र भी रोने लगे।

संबंधित खबरें

मौलाना को बेंगलुरु में आर्ट ऑफ लिविंग के श्री श्री रविशंकर से बात करने के तीन दिन बाद रविवार को कानून बोर्ड के कार्यकारी पैनल की सदस्यता से हटा दिया था। मौलाना ने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद को सुलझाने के लिए वार्ता समझौते का प्रस्ताव किया था। रविशंकर से मौलाना की मुलाकात को सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम बोर्ड की लड़ाई को कमजोर करने के तौर पर देखा जा रहा था। कहा गया था कि रविशंकर ने अयोध्या में मंदिर बनाने और विवादित जगह से हटकर मस्जिद बनाने का पक्ष रखा था। मैलाना ने बच्चों को बताया था कि उन्होंने रविशंकर से एक शानदार विश्वविद्यालय और मस्जिद के लिए जमीन मांगी थी। कहा जा रहा है कि मौलाना ने बच्चों से कहा- मैंने उनसे (रविशंकर से) यह आश्वासन भी मांगा था कि आइंदा किसी मस्जिद को नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा।

मौलाना नदवी ने कहा कि उन्हें बोर्ड से निकालने पहले उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। मौलाना ने आरोप लगाया कि पत्रकारों से बातचीत के दौरान आरएसएस ने लॉ बोर्ड के कुछ सदस्यों के जरिये इसको हाइजैक कर लिया था। मौलाना ने बच्चों के सामने कहा कि उन्हें इस बात से दुख है कि आलोचक उन्हें हिंदुत्व बलों का एजेंट बता रहे हैं। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख और मुस्लिम लॉ बोर्ड के सदस्य हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को कहा कि जो लोग अयोध्या में मस्जिद को कहीं और बनाने पर सहमत हैं, वे इस्लाम के खिलाफ हैं। ओवैसी ने यह भी कहा कि कुछ लोग नरेंद्र मोदी की धुन पर नाच रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *