From badminton to table tennis and hockey Indian women are continuously doing well – नारी शक्तिः महिला खिलाड़ियों ने चढ़ाया सोने पर सुहागा

संदीप भूषण

सिडनी के गोल्ड कोस्ट में राष्ट्रमंडल खेलों में सात स्वर्ण पदक के साथ भारत पदक तालिका में कनाडा के बाद चौथे नंबर पर बना हुआ है। सोने के संग खेलों की शुरुआत करने वाले भारतीय दल ने 12 पदक अपनी झोली में डाले हैं। हालांकि इसमें महिलाओं का योगदान सबसे अधिक रहा। महिला खिलाड़ियों ने अब तक कुल पांच स्वर्ण पदक भारत को दिलाए हैं। एक रजत पदक भी देश को महिला खिलाड़ी के बूते ही मिला है।

21वें राष्ट्रमंडल खेलों के शुरुआती दिन एस मीराबाई चानू ने 48 किलोग्राम वर्ग में भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया। चानू ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्नैच, क्लीन एंड जर्क और ओवरऑल रेकार्ड के साथ स्वर्ण जीता। इसी दिन पुरुष वर्ग (56 किग्रा) में पी गुरुराजा ने रजत पदक अपने नाम किया। इसके अगले दिन संजीता चानू ने 53 किलो भार वर्ग में स्नैच के रेकार्ड के साथ पीला तमगा हासिल किया। लगातार कमर दर्द से जूझने के बाद भी संजीता ने हार नहीं मानी और कुल 192 किलो (84 और 108 किलो) उठाया। वजन उठाने के मामले में वह अपने नजदीकी प्रतिद्वंदी से 10 किलो आगे रहीं।

बड़ी खबरें

खेल संघों के आपसी झगड़े के कारण भारोत्तोलकों के दर्द और चोटों का ख्याल रखने के लिए गोल्ड कोस्ट में कोई फिजियो साथ नहीं था। हालांकि इसके बाद भी महिलाओं ने बेहतरीन प्रदर्शन किया। मीराबाई चानू ने कहा कि मेरे साथ यहां प्रतियोगिता के लिए कोई फिजियो नहीं था। उन्हें यहां आने की अनुमति नहीं मिली, प्रतियोगिता में आने से पहले मुझे पर्याप्त उपचार नहीं मिला। वहीं पदक लेते समय संजीता रो पड़ीं और पिछले कुछ महीने से अच्छे प्रदर्शन का दबाव पोडियम पर उनके आंसुओं के रूप में नजर आया। संजीता ने 2014 ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में 48 किलो वर्ग में स्वर्ण जीता था। उन्होंने भारत की स्वाति सिंह का ही ग्लास्गो में बनाया 83 किलो का स्नैच का रेकार्ड तोड़ा।

इसके बाद रविवार को भारोत्तोलन के ही 69 किलोग्राम वर्ग में पूनम यादव ने भारत को पांचवां स्वर्ण पदक दिलाया। निशानेबाजी में ‘गोल्डन गर्ल’ के नाम से मशहूर हो चुकीं 16 साल की मनु भाकर ने एक और सोना भारत की झोली में डाला। उन्होंने 240.9 का स्कोर बनाकर राष्ट्रमंडल खेलों का रेकार्ड अपने नाम किया। बैडमिंटन से लेकर टेबल टेनिस और हॉकी में भी भारतीय महिलाएं लगातार कमाल कर रही हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *