ipl introduce new mid transfer window provision rohit sharma supported – आईपीएल में लागू होगा फुटबॉल जैसा नियम, रोहित शर्मा ने कहा- इससे बढ़ेगा टूर्नामेंट का रोमांच

आईपीएल का मंच सज चुका है और आज से टी20 क्रिकेट के इस महाकुंभ का आयोजन शुरु होने जा रहा है। इसी बीच मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने आईपीएल में हुए एक बदलाव का समर्थन किया है। दरअसल आईपीएल में इस सीजन से फुटबॉल जैसा एक नियम लागू किया गया हैं। इन नियम के तहत 5 दिनों तक ट्रांसफर विंडो का प्रावधान किया गया है, जिसमें टीमें ऐसे अनकैप्ड प्लेयर्स का ट्रांसफर कर सकेंगी, जिन्होंने 2 से ज्यादा मैच नहीं खेले हों। रोहित शर्मा का मानना है कि इस बदलाव के बाद आईपीएल का रोमांच दोगुना हो सकता है। रोहित शर्मा ने कहा कि ‘यदि फुटबॉल की तरह सीजन के बीच में ही कुछ खिलाड़ियों का ट्रांसफर किया जा सके तो यह टीमों को मौका देगा कि वह अपने साथ ऐसे खिलाड़ियों को जोड़ सकें, जिनकी उन्हें जरुरत है, या फिर किसी खिलाड़ी को रिलीज भी कर सकें। रोहित ने कहा कि इसका फैसला फ्रैंचाइजी का होगा, लेकिन अगर ऐसा होता है तो यह टूर्नामेंट के लिए अच्छा होगा और इससे टूर्नामेंट की अहमियत भी बढ़ जाएगी।’

संबंधित खबरें

मुंबई इंडियंस के कोच महेला जयवर्द्धने ने भी इन नियम पर सहमति जतायी है और इसे एक अच्छा विकल्प बताया। महेला जयवर्द्धने ने आईपीएल में हुए अन्य बदलावों के साथ ही डिसीजन रिव्यू सिस्टम के जोड़े जाने पर भी खुशी जतायी। जयवर्द्धने का मानना है कि डिसीजन रिव्यू सिस्टम आईपीएल के रोमांच को बढ़ाएगा। जयवर्द्धने ने कहा कि डीआरएस अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भी चलता है, ऐसे में आईपीएल के लिए यह प्लस पाइंट है। खेल में गलतियां होती हैं और डीआरएस इसमें हमारी मदद करता है। अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी इस नियम को समझते हैं और इस तरह यह युवा खिलाड़ियों के लिए यह एक लर्निंग एक्सपीरियंस होगा।

जयवर्द्धने ने कहा कि नए नियम क्रिकेट की सेहत के लिए अच्छे हैं। जिस तरह से फुटबॉल में ट्रांसफर विंडो, तकनीक का इस्तेमाल और युवा खिलाड़ियों को मौका दिया जाता है, उसी तरह अब क्रिकेट में भी इसका फायदा दिखाई देगा। आईपीएल की तारीफ करते हुए कहा कि भारतीय वनडे टीम के अधिकतर खिलाड़ी आईपीएल की ही देन हैं। जयवर्द्धने ने कहा कि टी20 क्रिकेट के कारण खिलाड़ियों के स्किल लेवल में सुधार हुआ है और इसका असर टेस्ट क्रिकेट पर भी हुआ है। आज 80-90 प्रतिशत टेस्ट मैचों में नतीजा निकलता है। जिस तरह से बल्लेबाज रन बना रहे हैं और गेंदबाज विकेट ले रहे हैं, इससे मैच 4-5 दिन चलता है और उसका नतीजा निकलता है, यह क्रिकेट के लिए बहुत अच्छा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *