Mohammad Azharuddin did not have ticket of india vs pakistan champions trophy match – जब अजहरुद्दीन को आईसीसी ने नहीं दिया मैच देखने के लिए टिकट, नहीं चली पत्रकार की भी पैरवी

भारत के सबसे लंबे समय तक कप्तानों में से एक मोहम्मद अजहरुद्दीन को वर्ष 2000 में सामने आए मैच फिक्सिंग प्रकरण में कथित संलिप्तता के लिए बीसीसीआई ने आजीवन प्रतिबंधित किया था। ये वही कप्तान था, जिसने टीम इंडिया का 1992, 1996 और 1999 वर्ल्ड कप में नेतृत्व किया। हालांकि 2012 में आंध्र हाई कोर्ट ने उनके ऊपर लगी पाबंदी को हटा दिया लेकिन बावजूद इसके अजहरुद्दीन कुछ हद तक आज भी इस दंश को झेलते रहे।

खेल पत्रकार बोरिया मजूमदार ने अपनी किताब ‘इलेवन गॉड्स एंड अ बिलियन इंडियंस’ में एक वाकये का जिक्र किया है। ये बात 3 जून 2017 की है। अगले दिन बर्मिंघम के एजबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड में भारत-पाकिस्तान के बीच चैंपियंस ट्रॉफी का मुकाबला खेला जाना था। मोहम्मद अजहरुद्दीन इंडिया टुडे के स्पेशल शो के लिए वहीं मौजूद थे।

Cricketers, Indian Cricketers, Love Marriage, External Affairs, Cricketers Love Marriage, Love Stories, Cricketers Love Stories, Indian Cricket Team, Zaheer Khan

संबंधित खबरें

शो खत्म हुआ, तो अजहरुद्दीन ने मैच टिकट पाने के लिए इच्छा जाहिर की। काफी वक्त बाद भी टिकट उपलब्ध नहीं हो सकी। ये बेहद विचित्र बात थी कि जिस खिलाड़ी ने भारत के लिए तीन बार वर्ल्ड कप में कप्तानी की, वो एक अदद टिकट के लिए जूझ रहा हो। एक पूर्व खिलाड़ी ने शो के प्रोड्यूसर को सुझाव दिया कि वह टिकट प्रबंध करवाने के बारे में आईसीसी से बात करें, लेकिन समस्या तब भी नहीं सुलझ सकी।

8 फरवरी 1963 को आंध्र प्रदेश में जन्मे अजहरुद्दीन ने 31 दिसंबर 1984 को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट के साथ अंतर्राष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी। इस दाएं हाथ के बल्लेबाज ने अपने करियर में 99 टेस्ट मैचों की 147 पारियों में 6215 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 21 अर्धशतक और 22 शतक जड़े। टेस्ट में उनका सर्वोच्च स्कोर 199 रहा। बात अगर 334 वनडे की करें, तो अजहरुद्दीन इसमें 54 बार नाबाद रहते हुए 74.02 के स्ट्राइक के साथ 9378 रन बनाए। वनडे में अजहरुद्दीन ने 58 फिफ्टी और 7 सेंचुरी लगाई। अजहरद्दीन का प्रथम श्रेणी में भी रिकॉर्ड बेहद शानदार था। इसमें उन्होंने 229 मैचों की 343 पारियों में 15855 रन ठोके थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *