R Ashwin attacks Herschelle Gibbs for match-fixing after latter joke – आर. अश्‍विन ने मजाक को ले लिया सीरियसली, साउथ अफ्रीकी दिग्गज पर मारा मैच फिक्सिंग का तंज

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए साल 2011 से खेलना शुरू करने वाले आर अश्विन टेस्ट मैच के बेहतरीन खिलाड़ी हैं। अश्विन भले ही वनडे और टी-20 सीरीज में टीम इंडिया की तरफ से कम खेलते हों, लेकिन वे टेस्ट क्रिकेट में कप्तान विराट कोहली के शानदार खिलाड़ियों में से एक हैं। इन दिनों टी20 और वनडे फॉर्मेट में टीम इंडिया से बाहर चल रहे रविचंद्रन अश्विन ट्विटर पर काफी ट्रोल कर रहे हैं। एक जूते के ब्रैंड करने की कोशिश में उनके और साउथ अफ्रीका के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर हर्शल गिब्स के बीच काफी तनातनी हो गई। अश्विन ने जूते के ब्रैंड को प्रमोट करने की कोशिश में एक ट्वीट किया। इसमें अश्विन ने जूते के बेहतरीन डिजाइन और तकनीक के बारे में जिक्र करते हुए लिखा कि इसे पहनकर दौड़ने में उन्हें काफी आसानी होती है। इसपर गिब्स ने मजे लेते हुए लिखा कि ‘आशा है तुम थोड़ा और तेजी से दौड़ सकोगे।

बड़ी खबरें

इस छोटे-से मजाक पर अश्विन भड़क गए और उन्होंने लिखा, ‘तुमसे तेज नहीं, दुर्भाग्यवश मैं आपके जितना प्रतिभावान नहीं था लेकिन नैतिकता के दतौर पर मेरा दिमाग बेहतर था। मैंने मैच फिक्सिंग नहीं कि, जिससे मेरी थाली में भोजन आता है।’

इसपर गिब्स ने लिखा मुझे लगता है ‘शायद तुम मजाक को सही से नहीं ले पाते।’

अब तक क्रिकेट प्रेमी अश्विन को ट्रोल करना शुरू कर चुके थे। इस गेंदबाज ने भी पलटवार करते हुए लिखा, ‘मैं विश्वास करता हूं कि मेरा रीप्लाई भी मजाक था लेकिन तुमने और अन्य लोगों ने इसे किस प्रकार लिया। मैं इस फन के लिए हमेशा तैयार रहता हूं। हम कभी रात्रिभोज पर इसके बारे में बात करेंगे।’

बता दें कि अश्विन 57 टेस्ट की 107 पारियों में 311 शिकार कर चुके हैं। इस दौरान उन्होंने 26 बार 5 या उससे अधिक शिकार किए हैं। बात अगर 111 वनडे मैच की करें, तो उन्होंने 150 बार खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा है। इस फॉर्मेट में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 25/4 रहा। वहीं 46 अंतर्राष्ट्रीय टी20 मैचों में अश्विन 52 विकेट झटक चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *