Virender Sehwag apologized by tweeting the murder of tribal men Madhu – आदिवासी युवक की हत्या पर ट्वीट कर बुरे फंसे वीरेंद्र सहवाग, मांगनी पड़ी माफी

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग एक दलित युवक की हत्या पर ट्विट कर सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल हो रहे हैं। यहां तक की ट्विटर यूजर्स ट्रोल किए जाने पर सहवाग को दोबारा ट्विट कर माफी मांगनी पड़ी है। उन्होंने अपने ट्विट में माफी मांगते हुए कहा कि ‘यह मेरी गलती है कि मैंने इस जुर्म में शामिल बाकी आरोपियों के नाम नहीं लिखे, मैं इस बात के लिए माफी मांगता हूं, लेकिन मेरा ट्विट सांप्रदायिक नहीं था। हत्यारे धर्म को विभाजित करते हैं लेकिन हिंसक मानसिकता से एकजुट होते हैं। वहां शांति हो सकती है।’

दरअसल अट्टापड़ी इलाके में रहने वाले 27 साल के मधु नाम के आदिवासी युवक को स्थानीय लोगों ने चोरी के आरोप में हाथ-पैर बांधकर खूब पीटा। इसके बाद उसकी मौत हो गई थी। इस मामले में सात लोगों को आरोपी बनाया गया है। इसमें मनु दोमाधरन, जोनाथन जोसफ आदि का नाम भी शामिल है। इस घटना की निंदा करने के लिए क्रिकेटर वीरेंदर सहवाग ने शनिवार (24 फरवरी) को ट्वीट किया, लेकिन वह लोगों को पसंद नहीं आ आया। लोगों का कहना है कि सहवाग इस मामले को धार्मिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं।

बड़ी खबरें

सहवाह ने ट्विट करते हुए लिखा था कि ‘मधु ने सिर्फ एक किलो चावल चुराया था। इसपर उबेद, हुसैन और अब्दुल की भीड़ ने उस गरीब आदिवासी को मार डाला। यह एक सभ्य समाज के लिए कलंक की तरह है। मुझे इस बात पर शर्म आती है कि ऐसा होने पर भी किसी को कोई फर्क नहीं पड़ रहा।’ सहवाग के इस ट्वीट में एक ही समुदाय के तीन ओरोपियों का नाम लिखा गया है जबकि केरल पुलिस ने इस आरोप में जिन लोगों को नामजद किया है जिसमें अन्य संप्रदायों के लोग भी शामिल हैं।

सहवाग के इस ट्विट के बाद कई यूजर्स ने सहवाग पर इस मामले को धार्मिक रंग देने का आरोप लगाया। लोग उन्हें सलाह दे रहे हैं कि वे इस घटना को धार्मिक रंग न दें। कई यूजर्स को यह बात पसंद नहीं आई कि सहवाग ने केवल खास धर्म के आरोपियों के नाम ही बताए, जबकि भीड़ में अन्य लोग भी शामिल थे। इसी बात को लेकर लोगों ने पूर्व क्रिकेटर को घेरना शुरू कर दिया। हालांकि काफी ट्रोल होने के बाद वीरेंद्र सहवाग ने अब अपने ट्विट में आधी जानकारी देने के लिए माफी मांग ली है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *