मलेशिया: PM ने समलैंगिक महिलाओं को कोड़े मारे जाने वाली सजा की निंदा की

<p style=”text-align: justify;”><strong>कुआलालांपुर:</strong> मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने इस्लामिक अदालत द्वारा दो समलैंगिंक महिलाओं को बेंत से पीटने की सजा सुनाए जाने की आलोचना की और कहा कि उन्हें करुणा दिखानी चाहिए थी. अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में महाथिर ने कहा कि उत्तर पूर्व मलेशिया के तेरेंगनु राज्य में दी गई इस सजा ने इस्लाम को बदनाम किया है और यह इस्लाम के न्याय और करुणा के सिद्धांतों के खिलाफ है.</p>
<p style=”text-align: justify;”>उन्होंने कहा कि उनकी पहली गलती के बावजूद महिलाओं को समझाया जाना चाहिए था, ना कि सजा देनी चाहिए थी. इस्लामी पुलिस ने देश के सर्वाधिक रूढ़िवादी हिस्से में से एक तेरेंगनु में इस साल अप्रैल में सार्वजनिक स्थल पर पार्क की गई कार में दो महिलाओं को समलैंगिंक संबंध बनाते पकड़ा था.</p>
<p style=”text-align: justify;”>इस्लामी अदालत ने शरिया या इस्लामिक कानून के तहत महिलाओं को छह बेंत मारने की सजा सुनाई, जो कि समलैंगिंक सेक्स करने पर मुकर्रर है. मानवाधिकार समूहों ने इस सजा को क्रूर और अन्याय करार देते हुए इसे मलेशिया में एलजीबीटी समुदाय के अधिकारों का हनन बताया है और कहा है कि देश में असहिष्णुता बढ़ रही है.</p>
<p style=”text-align: justify;”>मलेशिया में ड्युअल न्याय प्रणाली है, इसके तहत इस्लामिक अदालत मुस्लिम आबादी के धार्मिक और पारिवारिक मामलों को सुलझाता है, जिसमें गैर-शादीशुदा जोड़ों के बीच यौन संबंध के मामले भी शामिल हैं.</p>
<p style=”text-align: justify;”><strong>ये भी देखें</strong></p>
<p style=”text-align: justify;”>मास्टर स्ट्रोक : फुल एपिसोड । पांच राज्यों में रहा सवर्णों के बंद का असर</p>
<code></code>

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *