after the of 1,558 at least 1000 people feared missing

पालू: इंडोनेशिया में आये विनाशकारी भूकंप और सुनामी के बाद वहां अभी भी 1000 से ज्यादा लोगों के लापता होने की आशंका है. इंडोनेशियाई अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि भयावह आपदा आने के बाद के एक हफ्ते में लापता लोगों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है.

सुलावेसी द्वीप पर स्थित पालू शहर शक्तिशाली भूकंप और भयंकर बाढ़ की चपेट में आने के बाद पूरी तरह बर्बाद हो चुका है. बाढ़ में कई घर बह गये. इस भयावह आपदा में मरने वालों की संख्या अब तक 1,558 पहुंच चुकी है. बलारोआ में सरकारी आवासीय परिसर में बड़ी संख्या में लोगों के दबे होने की आशंका है, जिसे भूकंप ने पूरी तरह से अस्त-व्यस्त कर दिया है.

इंडोनेशिया की खोज और बचाव एजेंसी के एक प्रवक्ता यूसुफ लतीफ ने एएफपी को बताया, ‘‘हमने वहां हजारों घरों के ढहने का अनुमान लगाया है जिनमें शायद अभी भी 1000 से ज्यादा लोगों के दबे होने की आशंका है.’’ अधिकारियों ने बताया, ‘‘लेकिन हम अभी भी इस संभावना को लेकर आश्वस्त नहीं है कि वहां से कुछ लोग बचकर निकल गये होंगे.’’

कुछ दिनों की देरी के बाद, अंततः आपदा क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सहायता पहुंचने लगी है, जहां संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि लगभग 200,000 लोगों को मानवीय सहायता की आवश्यकता है.

भारत चला रहा है ऑपरेशन मैत्री

इंडोनेशिया में भूकंप और सुनामी पीड़ितों की सहायता के लिए भारत ने व्यापक अभियान शुरू करते हुए दो विमान और नौसेना के तीन पोत भेजे हैं जिनमें राहत सामग्री लदी है. विदेश मंत्रालय ने बुधवार को एक बयान में यह जानकारी दी. मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो के बीच एक अक्टूबर को टेलीफोन पर हुई बातचीत तथा इंडोनेशिया द्वारा अंतरराष्ट्रीय सहायता स्वीकार किए जाने के बाद भारत ने ऑपरेशन ‘समुद्र मैत्री’ शुरू किया.

वायुसेना के दो विमान बुधवार की सुबह चिकित्साकर्मियों और राहत सामग्री के साथ इंडोनेशिया रवाना हुए. इन विमानों में सी-130 जे और सी-17 शामिल हैं. सी-130 जे विमान से तंबुओं और उपकरणों के साथ एक मेडिकल टीम भेजी गयी है. इन उपकरणों की मदद से अस्थायी अस्पताल भी बनाए जा सकते हैं. सी-17 विमान से तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए दवाएं, जेनरेटर, तंबू और पानी आदि सामग्री भेजी गई है.

विमान राहत सामग्री के साथ बुधवार की शाम इंडोनेशिया पहुंच गये. मंत्रालय ने बताया कि नौसेना के तीन पोतों – आईएनएस तीर, आईएनएस सुजाता और आईएनएस शार्दुल – के छह अक्टूबर को इंडोनेशियाई द्वीप सुलावेसी पहुंचने की संभावना है. गौरतलब है कि इंडोनेशिया में शुक्रवार को 7.5 तीव्रता का भूकंप आया था जिससे सुनामी पैदा हुयी थी. भूकंप और सुनामी के कारण वहां भारी तबाही हुयी है.

ये भी देखें

घंटी बजाओ: क्या मोदी-पुतिन की केमिस्ट्री देखकर भड़क जाएगा अमेरिका?



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *