55 KM long China controversial sea bridge project uses steel that can build 60 Eiffel Towers – समंदर में चीन बना रहा दुनिया का सबसे लंबा पुल, लगा इतना स्टील कि खड़े हो जाएं 60 एफिल टावर

पड़ोसी मुल्क चीन दुनिया का सबसे लंबा समुद्री पुल बना रहा है, कहा जा रहा है इसे बनाने में 60 एफिल टावर के बराबर स्टील की मात्रा का इस्तेमाल किया गया है। पुल की लंबाई 55 किलोमीटर बताई जा रही है, यह हांगकांग, मकाउ और चीन को जोड़ेगा। पुल पानी के भीतर सुरंग से होकर भी गुजरेगा। इसमें उतार चढ़ाव भी होंगे। 9 साल पहले शुरू हुई परियोजना का इस हफ्ते चीनी सरकार ने प्रीव्यू दिखाया। एएफपी की खबर के मुताबिक यह पुल हांगकांग को दक्षिण चीन के शहर जुहाई और जुएं के लिए मशहूर मकाउ को जोड़ेगा। पुल पर्ल नदी के मुहाने के पानी को काटता हुआ निकलेगा। हालांकि इल पुल के शुरू होने की तारीख की घोषणा नहीं की गई है, लेकिन अधिकारियों ने उम्मीद जताई है कि पुल का इस्तेमाल 120 वर्षों तक किया जा सकेगा और इससे यात्रा में लगने वाले समय में करीब 60 फीसदी की कमी आएगी, जिससे व्यवसाय को प्रोत्साहन मिलेगा।

संबंधित खबरें

चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक पुल के लिए 420,000 टन स्टील इस्तेमाल किया जा रहा है, कहा जा रहा है कि यह मात्रा इतनी है कि 60 एफिल टॉवर बन जाएं। इस पुल की परियोजना के मैनेजर गाओ जिंगलिन ने कहा कि इस पुल के लिए पानी के भीतर 6.7 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने में उनकी कई रातों की नींद लगी। गाओ ने बुधवार (28 मार्च) को पत्रकारों को बताया- ”कई रात मैं सो नही पाया, क्योंकि निर्माण के दौरान बहुत सी कठिनाइयां आईं।” उन्होंने आगे कहा- ”पानी के भीतर 80 हजार टन के पाइपों को वाटरटाइट तकनीकी के सहारे जोड़ना सबसे चुनौतीपूर्ण कार्य था।” इस परियोजना में कितनी लागत आई, यह साफ नहीं हो पाया है, लेकिन कुछ अनुमानों में इसे 100 बिलियन युआन (15.1 बिलियन डॉलर) से ज्यादा बताया जा रहा है। इसमें कृत्रिम टापू, लिंक रोड और नई बॉर्डर क्रॉसिंग सुविधाएं शामिल हैं।

आलोचकों ने चीन की इस परियोजना को महंगा सफेद हाथी करार दिया है। हांगकांग के विरोधियों का कहना है कि यह परियोजना बीजिंग के अभियान की अर्ध-स्वायत्त शहर पर अपनी पकड़ मजबूत करने का हिस्सा है। रिपोर्ट के मुताबिक इस पुल को 2017 के अंत तक शुरू किया जाना था, लेकिन यह अनुमानित समय और लागत को पार कर गया और इसके निर्माण के दौरान कई मजदूरों की मौत भी हो गई। इसके अलावा इसे बनाने में भ्रष्टाचार के आरोप भी सामने आए। इस पुल के निर्माण कार्य में लगे 19 प्रयोगशाला कर्मियों पर गलत कंक्रीट टेस्ट के आरोप लगे और पिछले दिसंबर में एक शख्स को जेल भी हुई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *