Know, why Indonesia has so many Tsunamis and Earthquakes

जकार्ता: एक साल में आई दूसरी सुनामी से इंडोनेशिया के 281 लोगों को अपनी जानें गंवानी पड़ीं जबकि 800 से ज़्यादा लोग घायल हो गए. वहीं, कई लोग अभी भी लापता हैं. ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि आख़िर इस एशियाई देश में बार-बार भूकंप क्यों आ जाता है. आइए आपको देते हैं इसका जवाब.

इंडोनेशिया में निरंतर भूकंप और सुनामी इस वजह से आते रहते हैं क्योंकि ये भूकंपीय दृष्टि से सक्रिय फायर ऑफ रिंग पर विराजमान है. ये प्रशांत महासागर के बेसिन में ज्वालामुखियों और फॉल्ट लाइनों का एक आर्क है. आपको बता दें कि प्रशांत महासागर में एक तरफ ये जहां जपाना से इंडोनेशिया तक फैला हुआ है तो वहीं दूसरा तरफ इसका विस्तार कैलिफोर्निया से नॉर्थ अमेरिका तक है.

इंडोनेशिया में आए बड़े भूकंप और सुनामी में हुईं मौतें

साल                          मृतकों की संख्या

जुलाई 2006-             700

सितंबर 2009-           1100

अक्टूबर 2010-          300

दिसंबर 2016-            100

अगस्त 2018-            500

सितंबर 2018-           2000

इस हिसाब से अकेले 2018 में ही अभी तक इंडोनेशिया में 2800 के करीब लोगों की जानें चली गईं. आपको बता दें कि ये सुनामी एक ज्वालामुखी के फटने से आई. इसकी वजह से उठी लहरों ने सैकड़ों बिल्डिंगों को तबाह कर दिया. अंतरराष्ट्रीय समय के अनुसार लहरों ने दक्षिणी सुमात्रा के किनारे को रात 9.30 मिनट पर हिलाकर रख दिया. सुनामी शनिवार को तब आई जब काराकोटा के “बच्चे” के तौर पर जाने जाने वाली ज्वालामुखी फट गई.

भूकंप और ज्वालामुखी के फटने से आने वाली सुनामी में ये फर्क होता है कि भूकंप से आने वाली सुनामी का अलर्ट सिस्टम मौजूद है. ऐसे में अधिकारी भूकंप आने से पहले मिली जानकारी के मुताबिक राहत और बचाव की तैयारियां कर सकते हैं. लेकिन ज्लावामुखी से आने वाली सुनामी के साथ ऐसा कुछ भी नहीं है. इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ रेड क्रॉस और रेड क्रिसेंट सोसाइटीज ने कहा कि ‘शक्तिशाली लहरें’ 30-90 सेंटीमीटर (1-3 सेंटीमीटर) की ऊंचाई तक उठ रही थीं.

देखें वीडियो

पानी से इंडोनेशिया में प्रलय

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *