PM Modi Says India, Russia Against Outside Influence In Internal Matters Of Any Nation | रूसी राष्ट्रपति से मुलाकात में पीएम मोदी बोले

नई दिल्ली: रूस के राष्ट्रपति व्हादिमीर पुतिन के साथ मुलाकात में पीएम मोदी ने देश के आंतरिक मामलों में बाहरी दखल बर्दाश्त नहीं करने की बात कही है. आज भारत-रूस के बीच 20वां समिट है और पीएम मोदी इसी में हिस्सा लेने के लिए रूस पहुंचे हैं. पुतिन से मुलाकात में पीएम मोदी ने कहा है कि दोनों देश किसी भी देश के आतंरिक मामलों में बाहरी दखल के पूरी तरह से खिलाफ हैं.

पीएम मोदी ने कहा, ”भारत और रूस काफी क्षेत्रों जैसे कि डिफेंस, कृषि और व्यापार में आगे बढ़ रहे हैं. हम दोनों किसी देश के आतंरिक मामले में बाहरी दखल के पूरी तरह से खिलाफ हैं. हम ग्लोबल लेवल पर साथ काम करने के लिए काफी काम कर रहे हैं.”

अफगानिस्तान और खाड़ी देशों की स्थिति को लेकर भी दोनों देशों के बीच बातचीत हुई है. सयुक्त वार्ता में पीएम मोदी ने कहा, ”भारत ऐसा अफगानिस्तान देखना चाहता है कि जो आजाद हो, जहां शांति हो और लोकतंत्र हो.”

15 समझौतों पर हुए हस्ताक्षर

विदेश मंत्रालय ने जानकारी दी है कि भारत और रूस के बीच 15 समझौतें पर हस्ताक्षर हुए हैं. दोनों देशों के बीच इन 15 समझौतों में डिफेंस, जमीन, परमाणु उर्जा, हाई टेक तकनीक जैसे कई बड़े मुद्दे शामिल हैं. पुतिन और मोदी की मुलाकात में ही इन 15 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं.

वहीं रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने मोदी के रूस आने पर खुशी जाहिर की. पुतिन ने कहा, ”दोनों देशों की दोस्ती लगातार मजबूत हो रही है. हम ऐसी कोशिशों में लगे हैं जिससे दोनों देशों के बीच बेहतर संबंध बने रहें. हमने पिछली मुलाकात में कुछ फैसले लिए थे जिसके बाद दोनों देशों के व्यापार में 17 फीसदी की बढ़ोतरी हुई.”

पुतिन ने कई और क्षेत्रों में भारत के साथ काम करने की इच्छा जाहिर की. उन्होंने कहा, ”भारत और रूस के बीच पहले से ही हथियारों को लेकर काफी अच्छे संबंध हैं. दोनों देशों का इतिहास काफी पुराना है. हम दुनिया के बड़े मंचों पर भारत के साथ खड़े रहते हैं और भारत को आधुनिक हथियार भी मुहैया करवा रहे हैं.”

प्रधानमंत्री मोदी ने पुतिन से कहा, ”मैंने कई मामलों पर चर्चा के लिए कई मौकों पर आपसे फोन पर बात की और मुझे कभी कोई हिचकिचाहट नहीं हुई.” मोदी ने रूस का सर्वोच्च असैन्य सम्मान उन्हें प्रदान करने के लिए राष्ट्रपति पुतिन और रूस के लोगों का आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा, ”यह दोनों देशों के लोगों के बीच अच्छे संबंधों को दर्शाता है. यह 1.3 अरब भारतीयों के लिए सम्मान की बात है.”



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *