Pakistan To Bring Up Kashmir Issue At UNHRC Session India Will Reply

नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) का 42वां सत्र सोमवार से जिनेवा में शुरू हो गया है. इस सत्र में आज भारत और पाकिस्तान आमने-सामने होंगे. बैठक के उद्घाटन सत्र में ही साफ हो गया है कि इस बैठक में एक अहम मुद्दा कश्मीर का होगा. पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी बैठक को आज सम्बोधित करेंगे और भारतीय पक्ष इसके बाद जवाबी वार करेगा. दोनों मुल्कों के प्रतिनिधियों को बैठक में अलग-अलग सत्र में बोलना है. कुरैशी का मंगलवार दोपहर 3.30 बजे के करीब संबोधन होगा. इसके बाद भारत की सेक्रेटरी (ईस्ट) विजय ठाकुर बोलेंगी. वह कंट्री स्टेटमेंट देंगी. इसके बाद भारत राइट टू रिप्लाई का इस्तेमाल करते हुए रात 8.30 बजे बोलेगा. इसमें कुरैशी को जवाब दिया जाएगा.

इस वैश्विक मंच पर भारत की पूरी कोशिश पाकिस्तान का चेहरा बेनकाब करने की होगी. भारत की तरफ से वरिष्ठ राजनयिक अजय बिसारिया बैठक में देश का पक्ष रखेंगे और पाकिस्तान की सच्चाई को दुनिया के सामने लाएंगे. वहीं, पाकिस्तान की तरफ से खुद वहां के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और पूर्व विदेश सचिव तहमीना जंजुआ इस सम्मेलन में भाग लेंगे. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 42वें सत्र की बैठक 27 सितंबर तक चलेगी.

                                                                         (Ajay Bisaria)

बता दें कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद पहुंचा है. पाकिस्तान के इस प्रयास को रोकने और उसके असली चेहरे को दुनिया के सामने लाने के लिए वरिष्ठ राजनयिक अजय बिसारिया के नेतृत्व में गई टीम को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. यह टीम मानवाधिकार परिषद की बैठक में पाकिस्तान में हो रहे जबरन धर्म परिवर्तन से लेकर गिलगित-बाल्टिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन का मामला उठाएगी.

पाकिस्तान का मानवाधिकार आयोग तीन महीने से निष्क्रिय

लगातार मानवाधिकार का रोना रोने वाले पाकिस्तान का राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग इसके शीर्ष पदाधिकारियों का कार्यकाल पूरा होने की वजह से तीन महीने से अधिक समय से निष्क्रिय पड़ा है. इसके बावजूद भी पाक बेशर्मी की हद पार करते हुए कश्मीर में भारत पर लगातार मानवाधिकार उल्लंघन का आरोप लगा रहा है. डॉन अखबार ने एक रिपोर्ट में कहा है कि अध्यक्ष और सात में से छह सदस्यों का चार साल का कार्यकाल गत 30 मई को समाप्त हो चुका है. आयोग के कर्मचारियों को डर है कि प्रधानमंत्री इमरान खान और नेशनल असेंबली में नेता विपक्ष शहबाज शरीफ के बीच कटु संबंधों की वजह से हो सकता है कि आयोग अभी और समय तक निष्क्रिय रहे.

                                                                    (Shah Mahmood Qureshi)

फजीहत के बाद भी कश्मीर राग अलाप रहा पाकिस्तान

मालूम हो कि पाकिस्तान को बार-बार वैश्विक मंच पर कश्मीर मुद्दे पर फजीहत का सामना करना पड़ा है. इसके बावजूद पाकिस्तान ने कोई सीख नहीं ली है और वह लगातार कश्मीर राग अलाप रहा है. जम्मू-कश्मीर मुद्दे को पाकिस्तान ने 16 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाया था. पाकिस्तान यहां कश्मीर मसले पर एक विशेष सत्र की मांग कर रहा था, लेकिन वह जरूरी 16 वोट पाने में विफल रहा.

कश्मीर मसले पर विशेष सत्र बुलाने में मिली नाकामयाबी के बाद भी पाकिस्तान कश्मीर पर एक विशेष चर्चा या भारत के खिलाफ एक प्रस्ताव लाने का छद्म प्रयास कर रहा है. पाकिस्तान के पास इन दोनों विकल्पों पर नोटिस देने के लिए 19 सितंबर तक का समय है. हालांकि, इस बैठक में भारतीय राजनयिक अजय बिसारिया पाकिस्तान का पर्दाफाश करने के लिए तैयार हैं.

यह भी पढ़ें-

पीएम मोदी ने अपने प्रिंसिपल सेक्रेटरी नृपेंद्र मिश्रा को प्रधानमंत्री आवास पर दिया फेयरवेल

Published: 10 Sep 2019 02:11 AM

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *