external affairs state minister vk singh two days north korea visit – गुपचुप ढंग से नॉर्थ कोरिया के दौरे पर गए थे मंत्री वीके सिंह? जानें क्या है प्लान

भारतीय विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह इन दिनों उत्तर कोरिया के दौरे पर गए हुए हैं। साल 1998 के बाद यह पहला मौका है, जब कोई भारतीय मंत्री डेमोक्रेटिक पीपल्स ऑफ रिपब्लिक कोरिया के दौरे पर गए हैं। हालांकि ऐसा लग रहा था कि भारतीय विदेश मंत्रालय इस दौरे को सीक्रेट रखना चाहता था, लेकिन उत्तर कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएनए ने वीके सिंह के इस दौरे को सार्वजनिक कर दिया। इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने भी इस मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बुधवार शाम बताया कि वीके सिंह उत्तर कोरिया सरकार के बुलावे पर 2 दिवसीय अधिकारिक यात्रा के लिए प्योंगयांग गए हुए हैं। विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि विदेश राज्यमंत्री ने अपने दौरे के पहले दिन उत्तर कोरिया की सर्वोच्च एसेंबली के उपाध्यक्ष किम योंग दे, उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री री योंग हो और उत्तर कोरिया के संस्कृति मंत्री पाक चुन नाम से मुलाकात की।

ये है दौरे का उद्देश्यः माना जा रहा है कि उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम के पाकिस्तान के साथ कथित संबंधों को देखते हुए वीके सिंह ने प्योंगयांग का दौरा किया है। बता दें कि ऐसी खबरें हैं कि पाकिस्तान ने उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को विकसित करने में मदद की है। वहीं उत्तर कोरिया ने भारत सरकार को आश्वासन दिया है कि एक मित्र राष्ट्र होने के नाते वह ऐसी किसी भी कारवाई का समर्थन नहीं करेंगे, जो भारत की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करे।

बता दें कि उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम के विरोध में अमेरिका ने उत्तर कोरिया पर कई प्रतिबंध लगाए हुए हैं। ऐसे में भारत और उत्तर कोरिया के संबंध भी प्रभावित हुए हैं। हालांकि अमेरिका के दबाव के बावजूद भारत ने उत्तर कोरिया के साथ अपने संबंध पूरी तरह से खराब नहीं किए हैं और अब दोनों देश शिक्षा, कृषि, फार्मास्यूटिकल और पारंपरिक दवाईयों के क्षेत्र में सहयोग बढ़ा रहे हैं। उत्तर कोरिया ने भारतीय विदेश राज्यमंत्री को कोरियन पेनिन्सुला की ताजा स्थिति से भी अवगत कराया है। वहीं वीके सिंह ने भारत और उत्तर कोरिया के बीच शांति और समृद्धि के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया है।

उल्लेखनीय है कि भारतीय विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह का उत्तर कोरिया का दौरा ऐसे वक्त में हो रहा है, जब उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के नेताओं की हाल ही में हुई ऐतिहासिक बैठक के बाद फिर से थोड़ा तनाव देखने को मिल रहा है। दरअसल उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया के साथ जल्द होने वाली एक उच्च स्तरीय बैठक को रद्द कर दिया है। उत्तर कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच हुए एक सैन्य अभ्यास के बाद यह फैसला किया है। उत्तर कोरिया ने दोनों देशों के बीच हुए इस सैन्य अभ्यास को उकसावे की कारवाई करार दिया है। साथ ही उत्तर कोरिया ने 12 जून को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन के बीच होने वाली शिखर वार्ता को भी रद्द करने की धमकी दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *