Former American Model Rebecca Zeni dead after allegedly eaten alive by mites at Georgia Nursing Home – पूर्व मॉडल की दर्दनाक मौत, नर्सिंग होम में जिंदा खा गए कीड़े!

quit

अमेरिका में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। अस्पताल की लापरवाही के चलते एक पूर्व मॉडल को जीवन के अंतिम पलों में बेहद दर्दनाक स्थिति का सामना करना पड़ा था। रेबेका जेनी (93) का निधन 2 जून, 2015 को हुआ था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, जेनी को चर्मरोग (दाद-खाज) की शिकायत पर वर्ष 2013 में जॉर्जिया के लफायत शहर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके वकील ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जेनी की मौत की वजह सेप्टीसेमिया को बताया गया था। इस तरह की बीमारी में अत्यंत सूक्ष्म कीड़े शरीर के अंदर फैलते जाते हैं। ये कीड़े स्किन में ही रहते हैं और पूरे शरीर में अंडे भी देते रहते हैं। जेनी परिवार के वकील लांस लॉरी ने बताया कि पूर्व मॉडल की स्किन हर दिन खराब होती जा रही थी। एक समय ऐसा आया जब वह सख्त बीमार हो गई थीं। अब क्षतिपूर्ति की मांग को लेकर कोर्ट में अर्जी दाखिल की गई है। लांस लॉरी के मुताबिक, जेनी को जिन खौफनाक परिस्थितियों और असहनीय दर्द का सामना करना पड़ा उसके लिए अस्पताल से मुआवजे की मांग की गई है।

संबंधित खबरें

जेनी की बेटी पामेला ने प्रूइट हेल्थ के खिलाफ याचिका दायर की है। लांस लॉरी ने कहा, ‘जेनी के शरीर पर चकत्ते उभर रहे थे, लेकिन अस्पताल के डॉक्टर और अन्य कर्मचारी यह मानने को तैयार नहीं थे कि यह दाद-खाज (स्केबीज) है। नर्सिंग होम को स्केबीज की समस्या के बारे में जानकारी थी, क्योंकि बड़ी संख्या में इससे संक्रमित मरीज वहां आ रहे थे। इसके बावजूद नर्सिंग होम इसको छुपाने में जुटा रहा था। वे पीड़ित परिवार को इसकी जानकारी नहीं दे रहे थे।’ जॉर्जिया में वर्ष 2013-15 के दौरान स्केबीज का संक्रमण तेजी से फैला था। आरोप है कि संक्रमण के बावजूद स्वास्थ्य विभाग ने मुकम्मल जांच-पड़ताल नहीं की थी। लांस का कहना है कि पामेला के लिए जीवन के अंतिम पलों में मां की लगतार बिगड़ती स्थिति को देखना बेहद खौफनाक था। वह इससे बेहद निराश और खौफजदा थीं। अमेरिकी मीडिया में इस घटना को लेकर अस्पताल प्रबंधन की तीखी आलोचना हो रही है। जेनी के निधन के दो साल बाद अब इस मामले में नर्सिंग होम के खिलाफ अर्जी दाखिल की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *